स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

maha politics: मातृभूमि के कसीदे पढ़ते हुए भारतमाता की जय बोलने में उन्हें कोई हिचक नहीं

Ramdinesh Yadav

Publish: Sep 22, 2019 20:13 PM | Updated: Sep 22, 2019 20:17 PM

Mumbai

  • उस गेटअप और हुलिया वाले रूढ़िवादी लोग भी बदल रहें है।
  • बुर्काधारी महिलाएं और लम्बी दाढ़ी, सर पर टोपी वाले मुसलमान के रुख में दिखने लगा बदलाव
  • अब अपनी मातृभूमि के कसीदे पढ़ते हुए भारतमाता की जय बोलने में उन्हें कोई हिचक नहीं
  • धारा 370 और तीन तलाक ने बदले है मुसलमानो के रुख
  • अमित शाह की सभा में दिखा मुस्लिम महिलाओं का हुजूम
  • भारत माता की जय बोलने से रोकने वाले तो सिर्फ दलाल है। जरुरत तो मुसलिम समाज को शिक्षित बनाने की है।

मुंबई। साम्प्रदायिकता और धर्म के नाम पर अब तक कांग्रेस , टीएमसी जैसे दूसरे दल भाजपा को कोसते रहे हैं , लेकिन रविवार को मुंबई में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष की अमित शाह की सभा में मुश्लिम महिलाओं की उमड़ी भीड़ तस्वीर का दूसरा पहलू पेश करती है। कभी कांग्रेस की रीढ़ कहे जाने वाले मुस्लिम समाज के लोगों रुख अब भाजपा की ओर मुड़ रहा है। बुर्काधारी महिलाएं और लम्बी दाढ़ी , सर पर टोपी वाले मुस्लिम समाज के कट्टर पंथी लोग भी अब अपनी विचारधारा में बदलाव ला रहे हैं। बदलाव ऐसा की अपनी मातृभूमि के कसीदे पढ़ते हुए भारतमाता की जय बोलने में उन्हें अब कोई हिचक नहीं है। इसके लिए भाजपा का अल्पसंख्यक मोर्चा तो काम कर ही रहा है लेकिन केंद्र सरकार की मुस्लमान समुदाय के विकास की तरफ केन्द्रित नजर को अधिक श्रेय जाता हैं। तीन तलाक से मुस्लिम महिलाएं जहा न्याय पा रही हैं वही जम्मू एवं कश्मीर से धारा 370 तथा 35 ए हटाकर मुस्लिम कम्युनिटी को देश की विकास धारा से जोड़ने की पुरजोर कोशिश ने उन्हें सोचने पर मजबूर कर दिया है। तीन तलाक और जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद पहली बार मुंबई में केंद्रीय गृह मंत्री की आयोजित सभा में मुस्लिम समाज की महिलाएं और पुरुष जम कर दिखे। झुण्ड बनाकर मुस्लिम महिलाएं और पुरुष जोश और आत्मविश्वास के साथ पहुंच रहे थे। मुसलमानो का भाजपा प्रेम कांग्रेस के लिए खतरे की घंटी है। कांग्रेस -एनसीपी अब तक मुसलिम वोटबैंक को अपना मानकर चल रही थी लेकिन अब धीरे धीरे वो भी खिसकने लगा है।

maha politics: मातृभूमि के कसीदे पढ़ते हुए भारतमाता की जय बोलने में उन्हें कोई हिचक नहीं

इमाम अल्लाह के बाद ही आते हैं।
नौकरी पेशा युवती फलक कुरैशी ने पत्रिका के साथ बात चित में कहा कि भाजपा हिन्दू पार्टी थी , लेकिन अब जब वह मुसलमानो के हित में काम कर रही है तो लोगों परख रहे है कौन उनके लिए अच्छा है तो कौन बुरा है। जो 5 वकत की नमाज अदा करता है वह अल्लाह को मनता है तो दूसरे धर्म के भगवान को भी मनता है। वे भी हमारे हैं। रही बात भारत माता की जय बोलने की तो हम जिस भूमि पर है यदि उसके नहीं हुए तो अल्लाह माफ़ नहीं करेगा। इमाम के कहे सुने पर अब लोग नहीं जाते हैं। इमाम अल्लाह के बाद ही आते हैं।

maha politics: मातृभूमि के कसीदे पढ़ते हुए भारतमाता की जय बोलने में उन्हें कोई हिचक नहीं

उस गेटअप और हुलिया वाले रूढ़िवादी लोग भी बदल रहें है।
कट्टर पंथी मुसलिम भाजपा से डरता है के सवाल पर महिला आयोग कि सदस्य रिदा रसीद ने कहा कि यह सब पहले की बात है। साम्प्रदायिकता और धर्मवाद के दलदल से अब लोग बाहर निकल रहे है। भाजपा का नजरिया मुसलिम समाज के लिए सकरात्मक है इसक विश्वास अब उन्हें होने लगा है यही वजह है कि उस गेटअप और हुलिया वाले रूढ़िवादी लोग भी बदल रहें है। भाजपा सत्ता में है लेकिन कभी न कहा कि किसी योजना का लाभ मुसलमानो को मत दो। मेरे जैसे साधारण महिला को महत्वपूर्ण पद देकर मुस्लिम महिलाओं के विकास पर जोर देने का फरमान दिया है। जब मुस्लिम समाज के लिए मै खड़ी होती हूं तो उन्हें लगता है कि भाजपा के बीच उनका भी कोई है। सरकार के तीन तलाक से मुस्लमान के घर के आंगन में न्याय पंहुचा है। अकेले मुंब्रा इलाके में तीन शिक्षित महिलाओं ने तलाक का लाभ लिया है। मामूली विवाद पर उन्हें तलाक दे दिया गया था। अब वे और उनका परिवार किसके साथ होगा , आप ही बताएं। भारत माता की जय बोलने से रोकने वाले तो सिर्फ दलाल है। जरुरत तो मुसलिम समाज को शिक्षित बनाने की है। रुबीना शेख ने कहा कि एक खुले माहौल में बच्चों को यदि परवरिस देना है तो उन्हें जींस पहनने से रोकने वालों को ही रोकना होगा। जब अन्य धर्म के लोग सही देश में जा रहे हैं तो हम विपरीत दिशा में क्यों जाए।

maha politics: मातृभूमि के कसीदे पढ़ते हुए भारतमाता की जय बोलने में उन्हें कोई हिचक नहीं

भारत माता की जय बोलने से रोकने वाले तो सिर्फ दलाल

भारत माता की जय बोलने से रोकने वाले तो सिर्फ दलाल है। जरुरत तो मुसलिम समाज को शिक्षित बनाने की है। रुबीना शेख ने कहा कि एक खुले माहौल में बच्चों को यदि परवरिस देना है तो उन्हें जींस पहनने से रोकने वालों को ही रोकना होगा। जब अन्य धर्म के लोग सही देश में जा रहे हैं तो हम विपरीत दिशा में क्यों जाए।
इस सभा में शामिल हुई कई महिलाओं ने एक ही बात पर जोर दिया कि नए दौर के मुसलिम लड़की और लडके अनाड़ी नहीं हैं। आने वाली पीढ़ी की तरक्की के लिए उन्हें कुप्रथाएं नहीं रोक सकती है। कहिउँले विचारों और दीन -कुरान के अनुसार चलने में उन्हें कोई आपत्ति नहीं है। कट्टर पंथी कहे जाने वाले भाजपा के प्रति मुस्लिम समाज की सोच धीरे धीरे परवर्तित हो रही है। मुसलमान समुदाय की युवा पीढ़ी जो इमाम से पहले अल्लाह को मानती है वह भारत माता की जय बोलने में बिलकुल हिचक नहीं रखती।

maha politics: मातृभूमि के कसीदे पढ़ते हुए भारतमाता की जय बोलने में उन्हें कोई हिचक नहीं

नए दौर के मुसलिम लड़की और लडके अनाड़ी नहीं हैं
तीन तलाक और जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद पहली बार मुंबई में केंद्रीय गृह मंत्री की आयोजित सभा में मुस्लिम समाज की महिलाएं और पुरुष जम कर दिखे। झुण्ड बनाकर मुस्लिम महिलाएं और पुरुष जोश और आत्मविश्वास के साथ पहुंच रहे थे।
मुसलमानो का भाजपा प्रेम कांग्रेस के लिए खतरे की घंटी है। कांग्रेस -एनसीपी अब तक मुसलिम वोटबैंक को अपना मानकर चल रही थी लेकिन अब धीरे धीरे वो भी खिसकने लगा है।

maha politics: मातृभूमि के कसीदे पढ़ते हुए भारतमाता की जय बोलने में उन्हें कोई हिचक नहीं