स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सीएसएमटी और गोरेगांव के बीच चलेगी पहली एसी लोकल!

Arun lal Yadav

Publish: Aug 20, 2019 11:41 AM | Updated: Aug 20, 2019 11:41 AM

Mumbai

इस लाइन पर एसी लोकल चलाने का का प्रमुख कारण यह है कि इस रूट के रहने वाले यात्रियों की एसी लोकल में यात्रा करने की संभावनाएं ज्यादा हैं।


पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मुंबई. सेंट्रल रेलवे सीएसएमटी और गोरेगांव के बीच हार्बर लाइन पर अपनी पहली एसी लोकल चलाने की तैयारी कर रही है। इस लाइन पर एसी लोकल चलाने का का प्रमुख कारण यह है कि इस रूट के रहने वाले यात्रियों की एसी लोकल में यात्रा करने की संभावनाएं ज्यादा हैं।
गौरतलब है कि एसी लोकल का निर्माण इंटीग्रल कोच फैक्ट्री (आईसीएफ), चेन्नई में भेल से प्रौद्योगिकी और विद्युत के साथ किया जाता है। रेलवे बोर्ड ने कुछ समय पहले कुल 10 एसी लोकल का आदेश दिया गया है, जिनमें से तीन को पहले ही भेजा जा चुका है। वेस्टर्न और सेंट्रल रेलवे दोनों को पांच-पांच एसी लोकल मिलेंगी।
बता दें कि वेस्टर्न रेलवे ने 25 दिसंबर, 2017 को चर्चगेट और विरार के बीच देश की पहली लोकल चलाई थी।
सेंट्रल रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि हम सभी तीन मार्गों को चलाने में सक्षम हैं, लेकिन अभी हम सीएसएमटी और गोरेगांव के बीच पहली एसी लोकल चलाने की संभावना तलाश रहे हैं। हार्बर लाइन में बांद्रा से लगभग 10 मिनट की नियमितता है। इसलिए यहां एसी लोकल चलाने में आसानी भी होगी।
इसके अलावा इस रूट पर इसे चलाने से गोरेगांव से अंधेरी और यहां तक कि बांद्रा जाने वाले लोगों के लिए बहुत अच्छा सफर हो सकता है, जहां ज्यादा तर लोग काम के लिए बीकेसी जाते हैं।
पर रेलवे की यह योजना तभी पूरी हो सकती है जब ब्रिटिश काल के बने पुलों के नीचे से एसी लोकल आसानी से निकल सके। बता दें कि इन पुराने पुलों कम ऊंचाई पर बनाए गए हैं। वेस्टर्न रेलवे को दी गई पहली ट्रेन की ऊंचाई 4.335 मीटर थी, जबकि अधिकतम ऊंचाई 4.270 मीटर हो सकती थी, जिसे तमाम सुधारों के साथ चलाया गया।
एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि हमने आईसीएफ से अनुरोध किया था कि भविष्य की रेक की ऊंचाई 4,270 की से कम होनी चाहिए। आईसीएफ ने भी हमें आश्वस्त दिया था कि वह इस बात का ध्यान रखेगा। अब जब हमें लोकल मिलेगी तब हम उसकी उंचाई देखकर तय करेंगे कि इसे इस रूट पर चलाया जा सकता है, या नहीं।
एक दूसरे अधिकारी ने कहा कि गोरेगांव-सीएसएमटी के अलावा, ट्रेन पनवेल-गोरेगांव के बीच भी चलाई जा सकती है, क्योंकि वेस्टर्न के अधिकांश अनाज व्यापारी एसी में यात्रा करना पसंद करेंगे। अधिकारी ने कहा कि अभी तक कुछ भी अंतिम रूप नहीं दिया गया है क्योंकि एसी रेक को सभी तीन गलियारों - हार्बर, ट्रांसहॉबर और मुख्य लाइन के लिए आवंटित किया जाएगा। मुख्य लाइन पर सेंट्रल रेलवे सीएसएमटी और कल्याण के बीच धीमे गलियारे पर इसे शुरू करने की योजना बना सकता है।