स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पत्नी प्रेमिका के साथ भागी ,बेटे-बेटी के साथ पिता ने कर ली खुदकुशी

Nagmani Pandey

Publish: Dec 09, 2019 01:07 AM | Updated: Dec 09, 2019 01:07 AM

Mumbai

दो बच्चों को छोड़ प्रेमी के साथ भाग गई थी पत्नी
डेढ़ साल के बेटे और तीन साल की बेटी का शव मिला

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मुंबई. कलयुगी मां अपने डेढ़ साल के बेटे को छोड़ कर प्रेमी के साथ भाग गई। पत्नी रूपाली के घर से भागने से आहत पति दिनेश यादव ने आत्महत्या कर ली। रूपाली और दिनेश के दो बच्चों थे। इनमें डेढ़ साल का बेटा और तीन साल की बेटी थी। प्लंबर का काम करने वाले दिनेश के घर का दरवाजा रविवार को करीब 10 बजे तक नहीं खुला। उसके भाई नितिन सुरेश यादव ने पहले दरवाजा खटखटाया। जब दरवाजा नहीं खुला तब उसने जोर से धक्का दिया। दरवाजा तो खुल गया, मगर अंदर का नजारा देख नितिन के होश उड़ गए। इसके बाद सूचना पुलिस को दी गई।
आरसीएफ पुलिस से मिली जानकारी अनुसार वाशीनाका के कस्तूरबा नगर में रहने वाली 28 से 30 साल की रूपाली दोनों बच्चों व पति को छोड़ कर भाग गई थी। पुलिस ने बताया कि दिनेश का शव पंखे से लटका हुआ था। पास में ही दोनों बच्चे भी बेसुध पड़े थे। आरसीएफ पुलिस स्टेशन में तैनात एपीआई अन्ना पवार और सागर कालेकर की टीम ने दिनेश के साथ ही दोनों बच्चों का शव पोस्टमार्टम के लिए घाटकोपर के राजावाडी हॉस्पिटल भेज दिया। पोस्टर्माटम से पता चला की फंदा लगाने से दिनेश की मौत हुई है। राजावाडी के डॉक्टरों ने दोनों बच्चों की मौत किस वजह से हुई, इसका खुलासा नहीं किया है।
पहले भी भागी थी रूपाली
पुलिस की छानबीन में पता चला है की रूपाली इससे पहले भी दो बार किसी के साथ भाग चुकी है। घर वापस लौटने पर दिनेश ने समझौता कर लिया था। लेकिन, शनिवार को रूपाली कब और किसके साथ भागी, इसका पता अभी तक नहीं चला है। मामले की जांच आरसीएफ पुलिस के एपीआई अन्ना पवार और सागर कालेकर कर रहे हैं।
पैसे की चाहत
स्थानीय लोगों के अनुसार रूपाली के बड़े-बड़े सपने थे। वह चाहती थी कि उसके पास भी ढेर सारा पैसा हो। दिनेश प्लंबर का काम करता था। महंगाई के इस दौर में वह किसी तरह अपना व अपने बच्चों के पालन-पोषण भर का पैसा कमा रहा था। यह बात रूपाली को पसंद नहीं थी। इस बीच उसे कोई दोस्त मिल गया और शायद वह उसी के साथ एक दो नहीं तीन बार भाग चुकी थी।

[MORE_ADVERTISE1]