स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

महाराष्ट्र में Polio की तर्ज पर इस तरह होगा Hathi रोग का निवारण ?

Rohit Kumar Tiwari

Publish: Dec 06, 2019 12:10 PM | Updated: Dec 06, 2019 12:10 PM

Mumbai

अब हाथी रोग ( Elephant Disease ) के लिए राज्य ( State ) ने किसी कमर, पोलियो ( Polio ) की तर्ज पर महाराष्ट्र ( Maharashtra ) में किया जाएगा निवारण ( Prevention ), अगले वर्षों में हाथी रोग का पूरी तरह से होगा उन्मूलन ( Elimination ), मच्छरों ( Mosquitoes ) के माध्यम से हाथ-पैर ( Extremities ) में आ जाती है सूजन ( Swelling )

रोहित के. तिवारी
मुंबई. देश में पोलियो की तर्ज पर हाथी रोग के निवारण के लिए केंद्र सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने कार्य योजना तैयारी की है, जिसके तहत महाराष्ट्र का स्वास्थ्य विभाग जोरशोर से तैयारी कर रहा है। महाराष्ट्र में अगले दो वर्षों में हाथी रोग का पूरी तरह से उन्मूलन होगा और 13 जिलों में एक विशेष अभियान लागू किया जाएगा, जहां अगले दो महीनों में हाथी रोग के प्रकोप के पीड़ित पाए जा रहे हैं। भारत में हाथी रोग एक बड़ी चुनौती है और यह 21 राज्यों में 256 जिलों में फैला हुआ है। इस बीमारी में रोग मच्छरों के माध्यम से शरीर परजीवी रोगाणु पैदा करता है और हाथ-पैर सूज जाते हैं।

महाराष्ट्र: स्वास्थ्य विभाग में होंगी 10 हजार भर्ती, ठाणे में बनेगा कैंसर हॉस्पिटल

बेरोजगार युवाओं के लिए निकलेंगी 36000 नौकरियां, इनको मिलेगा आरक्षण का फायदा

[MORE_ADVERTISE1]महाराष्ट्र में Polio की तर्ज पर इस तरह होगा Hathi रोग का निवारण ?[MORE_ADVERTISE2]

गढ़चिरौली में हुआ था आईडीए का पहला प्रयोग...
विदित हो कि महाराष्ट्र के नागपुर, गढ़चिरौली और चंद्रपुर समेत करीब 18 जिलों में इसका भयावह प्रभाव देखा जा रहा है। बीमारी को रोकने के लिए नवंबर और फरवरी दो महीनों के दौरान राज्य में एक व्यापक सर्वेक्षण किया गया। इसमें तीन प्रभावी दवाइयां भी दी जाएंगी, जिनमें इव्हरमेकटिन, डायइथिल कार्बाजाईन व अल्बेंडोजोल (आईडीए) शामिल हैं। 2014 से समय-समय पर राज्य में हाथी रोग के उन्मूलन के लिए अभियान चलाए गए हैं, लेकिन इस दरम्यान सिर्फ दो प्रकार की ही दवाएं थीं। अब विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानदंडों के अनुसार, तीन खुराक दी जाएगी। आईडीए का पहला प्रयोग गढ़चिरौली में किया गया था।

महाराष्ट्र सरकार निकालने जा रही है 72,000 बंपर भर्तियां, जानें किस विभाग में कितनी वेकेंसी

तेजी से फैल रही फाइलेरिया बीमारी, 25 बच्चे इसकी चपेट में, जानिये क्या हैं इसके लक्षण

[MORE_ADVERTISE3]

अभियान इस तरह होगा...
उल्लेखनीय है कि आने वाले दिनों में इस अभियान को छह सर्वेक्षण टीमों के साथ 16 नियंत्रण टीमों और 34 रात्रिकालीन क्लीनिकों के माध्यम से 13 जिलों में हाथी रोग को रोकने बाबत लागू किया जाएगा। इस साल 15 जुलाई से 30 जुलाई तक राज्य में हाथी अनुसंधान अभियान के तहत 34 हजार 064 मरीज मिले, जिनमें एलिफेंटियासिस के बाहरी लक्षण पाए गए, जबकि 19 हजार 060 मरीज में अंडरआर्म्स के लक्षण मिले। वहीं स्वास्थ्य विभागा के सहसंचालक डॉ. प्रकाश भोई की माने तो 2017 हाथी रोगियों की संख्या 40 हजार 204 थी। राज्य के नागपुर, गढ़चिरौली, चंद्रपुर, वर्धा, भंडारा और अकोला जिलों में रोगियों की संख्या बहुत बड़ी है और रात भर क्लीनिकों के माध्यम से रक्त परीक्षण और दवाएं की जाएंगी। वहीं उन्होंने आगे बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन और केंद्र सरकार भी हृदय रोग के उन्मूलन के लिए सहायता प्राप्त करेंगे।

आखिर क्यों होती है फाइलेरिया की जांच रात में सोते समय?

30 स्कूलों में 569 बच्चों के बीच सर्वे में 36 बच्चों को खतरनाक संक्रामक रोग होने की आंशका

महाराष्ट्र में Polio की तर्ज पर इस तरह होगा Hathi रोग का निवारण ?

प्रधान सचिव ने दिल्ली में दी प्रस्तुति...
जो लोग बीमारी से संक्रमित हैं, उनकी बीमारी को नियंत्रित करने समेत आवश्यक मदद दी जाएगी। पोलियो की तरह ही हाथी रोग के उन्मूलन के लिए एक राष्ट्रव्यापी अभियान चलाया जा रहा है और स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव डॉ. प्रदीप व्यास ने हाल ही में दिल्ली में हाथी रोग के उन्मूलन के लिए राज्य की योजना पर एक प्रस्तुति भी दी है।

- डॉ. साधना तायडे, स्वास्थ्य निदेशक

लिम्फेटिक फाइलेरिया रोग भी फैलाता है मच्छर

संचारी रोग के खिलाफ सीएम का अभियान, दिया बड़ा बयान