स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

वेस्टर्न में 15 डिब्बों की 70 और लोकल

Arun lal Yadav

Publish: Dec 14, 2019 14:18 PM | Updated: Dec 14, 2019 14:18 PM

Mumbai

25 प्रतिशत यात्री अधिक यात्रा कर सकेंगे, मार्च 2020 से लगभग 70 लोकल ट्रेनों को 15 डिब्बों की करने की योजना, वर्तमान में 15 डिब्बों की 54 सेवाएं तेज गलियारे पर चलती हैं।

अरुण लाल

मुंबई. वेस्टर्न रेलवे ने मार्च 2020 से लगभग 70 लोकल ट्रेनों को 15 डिब्बों की करने की योजना बनाई है। बात दें कि अंधेरी और विरार के बीच प्लेटफॉर्म की लंबाई के विस्तार पर काम इस समय तक पूरा हो जाएगा। इसके बाद ये सेवाएं शुरू कर दी जाएंगी।इससे लोकल ट्रेन में 25 प्रतिशत यात्री अधिक यात्रा कर सकेंगे। यह मुंबई लोकल ट्रेन से यात्रा करने वालों के लिए बड़ी खुशखबरी है। वर्तमान में वेस्टर्न रेलवे में अभी 15 डिब्बों की 54 सेवाएं तेज गलियारे पर चलती हैं। धीमी गलियारे में केवल 12 डिबों की सेवाएं चलतीं हैं। वेस्टर्न रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि हमारी योजना है कि हम 10 ट्रेनों को 12 डिब्बों से 15 डिब्बों में बदलेंगे। हम इस तरह की योजना बना रहे हैं कि कम से कम 15 डिब्बों की 70 सेवाएं धीमी कॉरिडोर पर चल सकें। बता दें कि वेस्टर्न के 14 स्टेशनों पर कुल 31 प्लेटफॉर्म को बढ़ाया जा रहा है। 70 करोड़ रुपए की इस परियोजना से दहिसर और विरार के बीच लोगों को सबसे ज्यादा फायदा होगा। अंधेरी और विरार के बीच बड़े पैमाने पर यात्रियों की भीड़ है।15 डिब्बों की लोकल चलने से लोकल ट्रेन में 25 प्रतिशत यात्री अधिक यात्रा कर सकेंगे।चर्चगेट से अंधेरी के बीच प्लेटफार्मों की लंबाई बढ़ाने के लिए जगह की कमी के चलते यहां पर धीमी-गलियारे पर 15 डिब्बों की सेवाएं चलाना संभव नहीं होगा। मुंबई सेंट्रल और चर्चगेट के बीच स्टेशन में प्लेटफॉर्म की लंबाई नहीं बढ़ाई जा सकती।दिसंबर 2015 में रेलवे बोर्ड ने सेंट्रल और वेस्टर्न रेलवे को अधिक भीड़ के कारण दुर्घटनाओं को रोकने के लिए 15-कार सेवाओं की शुरुआत के लिए कार्य योजना तैयार करने के लिए कहा है। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी पिछले सप्ताह रेलवे के अधिकारियों के साथ बैठक में सेंट्रल और वेस्टर्न को 12 से 15 डिब्बों में बदलने के लिए एक कार्य योजना तैयार करने के लिए कहा था।सेंट्रल रेलवे ने भी कल्याण-खोपोली के बीच और बाद में कल्याण-कसारा के बीच 15 डिब्बों की लोकल सेवाओं को चलाने के लिए बुनियादी ढांचे को बढ़ाने के लिए रेलवे बोर्ड को 460 करोड़ रुपए का प्रस्ताव भेजा है।बता दें कि सेंट्रल रेलवे अक्टूबर 2012 से सीएसएमटी और कल्याण के बीच अपने फास्ट कॉरिडोर पर 15 डिब्बों की कुल 16 सेवाएं चलाता है। कल्याण से कर्जत और कसारा की ओर, प्लेटफॉर्म की लंबाई बहुत कम है। इसके अलावा सीएसएमटी में भी 15 डिब्बों की ट्रेनें केवल प्लेटफॉर्म नंबर पर आ सकतीं हैं। प्रथम चरण में कर्जत लाइन तक काम किया जाएगा, जिसमें बदलापुर और अंबरनाथ जैसे महत्वपूर्ण स्टेशन हैं। बाद के चरण में, कसारा लाइन पर काम किया जाएगा, जहां टिटवाला और आसनगांव जैसे स्टेशन हैं।बाद के चरण में15 डिब्बों की सेमी-फास्ट रूट पर चलाई जाएगी। सीएसएमटी-ठाणे के बीच तेज और फिर कल्याण तक धीमी गति से गलियारे पर, कलवा, मुंब्रा, दिवा और कोपर जैसे स्टेशनों के माध्यम से, जहां तेज ट्रेनें संचालित नहीं होती हैं। वेस्टर्न ने नवंबर 2009 में 15 डिब्बों की सेवाओं की शुरुआत की। वर्तमान मे वेस्टर्न में 15 डिब्बों की संख्या 54 सर्विस चलती है।

[MORE_ADVERTISE1]