स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

WhatsApp के नियमों का उल्लंघन कर रहें राजनीतिक दल, एक बार में ऐसे फॉरवर्ड करते हैं हजारों मैसेज

Vishal Upadhayay

Publish: May 21, 2019 07:07 AM | Updated: May 20, 2019 23:52 PM

Apps

  • लोकसभा चुनाव 2019 में खूब हुआ सोशल मीडिया का इस्तेमाल
  • पॉलिटिकल पार्टियों ने इन ऐप्स की मदद से ऐसे फैलाए हजारों मैसेज
  • WhatsApp की तरह ही काम करते हैं ये Apps

नई दिल्ली: भारत में लोकसभा चुनाव 2019 समाप्त हो चुका है। इस बार का चुनाव 7 चरणों में किया गया है। अब इस चुनाव के नतीजे 23 मई को घोषित किए जाएंगे।इसके बाद ही पता चलेगा की दिल्ली की गद्दी पर NDA के तत्कालीन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दोबारा बैठेंगे या UPA के राहुल गांधी को सत्ता संभालने का मौका मिलेगा। लेकिन इस बार का चुनाव कई मायनों में काफी अलग रहा। इस बार जहां देश की पॉलिटिकल पार्टियों के प्रचार रैलियों में दिखें वहीं चुनाव की गहमागहमी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक और व्हाट्सएप पर खूब देखने को मिली।

आज के दौर में ज्यादा लोगों तक कम खर्च में आसानी से संदेश पहुंचाने के लिए सोशल मीडिया सबसे बेहतर जरिया है, जिसका फायदा इस बार के लोकसभा चुनाव में खूब उठाया गया। बता दें फेसबुक और उसके स्वामित्व वाली कंपनी व्हाट्सएप के लिए भारत दुनिया का सबसे बड़ा बाजार है। ऐसे में इसका इस्तेमाल लोकसभा चुनाव 2019 में जोर-शोर से किया गया। जहां फेसबुक पर पॉलिटिकल पार्टियों के कई वेरिफाइड अकाउंट आपको देखने को मिल जाएंगे। वहीं, व्हाट्सएप के जरिए भी भारी मात्रा में इन पार्टियों ने अपने संदेश लोगों तक पहुचाएं हैं।

देश में व्हाट्सएप के जरिए फैलाए जा रही फेक न्यूज़ को रोकने के लिए कंपनी ने अपने प्लेटफॉर्म पर पिछले साल कई बदलाव किए। इनमें फॉरवर्ड मैसेज इंडीकेटर और फॉरवर्ड मैसेज की लिमिट को घटा कर सिर्फ 5 लोगों तक ही कर दिया गया था। लेकिन अब सवाल यह उठा है कि ऐसे में इन पॉलिटिकल पार्टियों ने अपने संदेश को व्हाट्सएप की मदद से हजारों लोगों तक कैसे पहुंचाया। तो हम आपको बता दें कई ऐसे ऐप्स हैं जो व्हाट्सएप की तरह की काम करते हैं। यह ऐप्स आपको आसानी से ऑनलाइन मिल जाएंगे जिसे 1,000 रुपये से लेकर 1,900 रुपये तक के खर्च में प्राप्त किया जा सकता है। इनमें GB WhatsApp , JTWhatsApp और बिजनेस सेंडर शामिल हैं।

डेवलपर्स द्वारा बनाएं गए इन्हीं ऐप्स का इस्तेमाल पॉलिटिकल पार्टियां अपने प्राचार के लिए करती हैं। ये ऐप्स यूजर्स को एक बार में 100 मैसेज भेजने की क्षमता रखते हैं जबकि ओरिजनल व्हाट्सएप की मैसेज भेजने की क्षमता 30 है। मतलब इन ऐप्स के जरिए व्हाट्सएप की मैसेज भेजने की लिमिट को बढ़ाया जा सकता है। ऐसी भी वेबसाइटें हैं जो इन ऐप्स को मुफ्त में उपलब्ध कराती है। इसके लिए बस आपको apk फाइल्स को डाउनलोड कर के इन ऐप्स को अपने स्मार्टफोन में इंस्टॉल करना होगा।