स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

वैलेंटाइंस-डे पर पीएम मोदी को प्यार का पैगाम देना चाहती हैं शाहीन बाग की औरतें

Shiwani Singh

Publish: Feb 14, 2020 11:27 AM | Updated: Feb 14, 2020 11:29 AM

Miscellenous India

  • शाहीनबाग ( shaheen bagh protest ) में CAA और NCR को लेकर जारी है प्रदर्शन
  • करीब 2 महीने से महिलाएं और बच्चे सड़क पर बैठकर कर रहे हैं प्रदर्शन
  • 17 फरवरी को शाहीनबाग को लेकर आएगा फैसला

नई दिल्ली। दिल्ली के शाहीनबाग ( shaheen bagh protest ) में सीएए और एनआरसी के खिलाफ लगभग दो महीने प्रदर्शन जारी है। कड़ाके की ठंड में महिलाओं कई दिनों से लगातार वहां डटी हुई हैं। वहीं, शाहीनबाग की महिलाओं ने 14 फरवरी को वैलेंटाइंस-डे के मौके पर वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को प्यार का पैगाम देना चाहती हैं। शाहीनबाग में पिछले करीब 2 महीने से महिलाएं और बच्चे सड़क पर बैठकर प्रदर्शन कर रहे हैं, जिसकी वजह से कालिंदीकुंज मार्ग बंद है।

यह भी पढ़ें-पुलवामा की बरसी: शहीद होने वालों की याद में बने स्मारक का उद्घाटन आज

प्रदर्शनकारी महिलाओं का कहना है, 'सरकार का कोई नुमाइंदा आए, हमसे बात करे और हमको आश्वस्त करे कि हम कानून वापस ले रहे हैं।' वैलेंटाइंस-डे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शाहीनबाग में प्यार का पैगाम देने के लिए 'मोदी हैशटैग तुम कब आओगे' सेलिब्रेशन हुआ और प्रधानमंत्री मोदी के लिए शाहीनबाग के लोग एक टेडी बियर लेकर आए और ये संदेश देने की कोशिश की। उन्होंने कहा, 'प्रधानमंत्री मोदी, आप आइए और हमसे बात करिए, नफरत मत करिए।'

[MORE_ADVERTISE1]shaheen-bagh-696x392-1.jpg[MORE_ADVERTISE2]

साथ ही कहा, 'शाहीनबाग आइए, प्यार के त्योहार का जश्न मनाइए, प्यार बांटिए और अपना तोहफा लेकर जाइए।' शाहीनबाग में हुए इस कार्यक्रम में कई प्रदर्शनकारी खफा भी नजर आए। कुछ महिलाओं का कहना है कि जामिया में दो दिन पहले छात्रों के साथ मारपीट की गई और दो दिन बाद इस तरह का कार्यक्रम शाहीनबाग में करना एक गलत संदेश देना है।

यह भी पढ़ें-कोलकाता: दुनिया की सबसे सस्ती मेट्रो सेवा की शुरुआत, पीयूष गोयल ने दिखाई हरी झंडी

उन्होंने कहा कि 17 फरवरी को शाहीनबाग में सड़क पर चल रहे प्रदर्शन को लेकर फैसला आना है और जिन्होंने भी यह कार्यक्रम तय किया, उन्होंने ज्यादा लोगों से नहीं पूछा। कई लोग बीच में से उठकर चले गए। ये उन्हें अच्छा नहीं लगा।

 

[MORE_ADVERTISE3]