स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

भारतीय वायुसेना में विजयादशमी को शुमार होगा रफाल, राजनाथ लेने जाएंगे फ्रांस

Dhiraj Kumar Sharma

Publish: Sep 10, 2019 15:53 PM | Updated: Sep 10, 2019 23:39 PM

Miscellenous India

  • लड़ाकू विमान Rafale को लेकर आई बड़ी खबर
  • भारतीय वायुसेना के बेड़े में होगा शुमार
  • रिसिविंग की तारीख 20 दिन आगे बढ़ी

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019 के सबसे बड़ा मुद्दों में शुमार फ्रांसीसी लड़ाकू विमान रफाल को लेकर बड़ी खबर सामने आई है। जल्द ही ये विमान भारतीय वायुसेना के बेड़े में शुमार होने वाला है। इसकी पहली किस्त का भी वक्त आ गया है। खास बात यह है कि इसकी पहली किस्त लेने खुद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पहुंचेंगे।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह राफेल विमान को रिसीव करने के लिए खुद फ्रांस जाएंगे। आपको बता दें कि पहले ये विमान भारत को 20 सितंबर को मिलने वाले थे, लेकिन अब इस तारीख को थोड़ा आगे बढ़ा दिया गया है। अब भारत को 8 अक्टूबर को राफेल विमान मिलेंगे। यानी दशहरे के दिन देश की ताकत में और भी इजाफा होगा।

कांग्रेस के लिए कई दिनों बाद आई खुशखबरी, इस दिग्गज नेता ने पार्टी छोड़ कांग्रेस का हाथ थामने के बनाया मन

दुनिया के सबसे तेज लड़ाकू विमानों में शुमार रफाल अब देश पहुंचने ही वाला है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह वायुसेना की एक टीम के साथ 8 अक्टूबर को फ्रांस जाएंगे।

इसी दिन वायुसेना दिवस भी है तो वहीं इस बार 8 अक्टूबर को विजयादशमी भी पड़ रही है।

इस जबरदस्त संयोग के साथ रफाल देश की ताकत को और इजाफा देगा। ऐसे में भारत को मिलने वाले रफाल विमान की तारीख ऐतिहासिक होने जा रही है।

आपको ये भी बता दें कि विजयादशमी के दिन देशभर में कई जगह शस्त्रों की पूजा की जाती है, ऐसे में भारत को इसी दिन उसका सबसे बड़ा हथियार मिलने वाला है।

रक्षा मंत्री फ्रांस के बॉर्डेक्स में एक मैन्यूफैक्चरिंग प्लांट में जाएंगे, जहां से रफाल उन्हें दिया जाएगा।

रक्षा मंत्री के साथ वायुसेना की एक टीम जाएगी तो रफाल को रिसीव करने की प्रक्रिया को पूरी करेगी।

rafale-jet-deal_pm-modi_rahul-gandhi_collage.jpg

कांग्रेस ने लगाया भ्रष्टाचार का आरोप
आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस ने इसे अब तक का सबसे बड़ा विमान सौदे का भ्रष्टाचार बताया।

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी लगभग हर रैली में इस सौदे का हवाला देकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते रहे, लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली।