स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

चंद्रयान 2 के कारण दुनियाभर में ISRO की चर्चा, अब वहां कटी सैलरी तो लोगों ने दिया ऐसा जवाब

Kaushlendra Pathak

Publish: Sep 10, 2019 17:19 PM | Updated: Sep 10, 2019 17:19 PM

Miscellenous India

  • इसरो के वैज्ञानिकों और इंजीनियर्स की सैलरी में कटौती
  • सोशल मीडिया पर यूजर्स का फूटा गुस्सा

नई दिल्ली। मिशन चंद्रयान 2 को लेकर दुनियाभर में ISRO की चर्चा हो रही है। इस बहुप्रतीक्षित मिशन को लेकर जहां पूरा देश इसरो पर गर्व कर रहा है। अब वहीं के वैज्ञानिकों और इंजीनियरों समेत कई सीनियर स्टाफ को इंक्रीमेंट्स की कटौती का सामना करना पड़ रहा है। इस खबर के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने जमकर भड़ास निकाली है। लोगों का कहना है कि यह हमारे असली हीरो के साथ क्रूर मजाक की तरह है।

यह है मामला

जानकारी के मुताबिक, भारत सरकार के उपसचिव एम रामदास के हस्ताक्षर वाले एक मेमोरेंडम में कहा गया है कि 1 जुलाई, 2019 से SD, SE, SF और SG ग्रेड के वैज्ञानिकों/इंजीनियरों के दो अतिरिक्त इंक्रीमेंट्स मिलने बंद हो जाएंगे। भारत सरकार के इस पत्र पर इंजीनियर्स एसोसिएशन ने आपत्ति जताते हुए कड़ी प्रतिक्रिया दी थी।

SEA के अध्यक्ष ए मणिरमन ने ISRO के चेयरमैन के सिवन को एक पत्र लिखा। इस लेटर में सिवन से अनुरोध किया गया था कि वह सरकार पर उसका फैसला वापस लेने के लिए दबाव बनाएं। अपने पत्र में रामदास ने यह भी लिखा था कि इन इंक्रीमेंट्स को हटाने के पीछे छठे वेतन आयोग के तहत संशोधित भुगतान का हवाला दिया गया था, हालांकि वेतन आयोग ने खुद इन 1996 के इंक्रीमेंट्स को जारी रखने की सिफारिश की थी।

पढ़ें- चंद्रयान-2: अब लैंडर विक्रम ढूंढने के लिए बचे सिर्फ 11 दिन, ISRO ने साझा की बड़ी जानकारी

isro_1.jpg

लोगों का फूटा गुस्सा

भारत सरकार के इस फैसले पर आम लोगों ने भी आपत्ति जताई है। सोशल मीडिया पर कई यूजर्स ने प्रतिक्रिया देते हुए इस फैसले को गलत ठहराया है। एक यूजर ने ट्विटर पर लिखा कि क्या यह हमारे असली हीरो ISRO वैज्ञानिकों के साथ यह क्रूर मजाक नहीं है?

पढ़ें- चंद्रयान 2 पर नया खुलासा, जहां लैंड हुआ विक्रम बेहद खतरनाक है इलाका!

वहीं, एक अन्य यूजर्स ने लिखा कि ऐसा क्यों हो रहा है? ये दोहरा रवैया देश के लिए बेहद शर्मनाक है। एक तरफ हम कहते हैं कि हमें ISRO पर गर्व है, दूसरी तरफ उनके भुगतान में कटौती कर दी जाती है। इस तरह से कई यूजर्स ने सरकार के इस फैसले पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है।