स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

भाजपा के नगरपालिका अध्यक्ष का आरोप, नमामि गंगे परियोजना में करोड़ों का भ्रष्टाचार

Akhilesh Kumar Tripathi

Publish: Nov 12, 2019 15:21 PM | Updated: Nov 12, 2019 15:21 PM

Mirzapur

नगरपालिका अध्यक्ष का आरोप है कि इस परियोजना में खानापूर्ति कर करोड़ों रुपये का भ्रष्टाचार किया गया है।

मिर्जापुर. बीजेपी के नगरपालिका अध्यक्ष ने नमामि गंगे परियोजना में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए कार्रवाई के लिए प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है। पत्र में इस घोटाले की जांच कर इसमें शामिल अधिकारियों पर सख्त कार्रवाई करने की बात कही गयी है। नगरपालिका अध्यक्ष का आरोप है कि इस परियोजना में खानापूर्ति कर करोड़ों रुपये का भ्रष्टाचार किया गया है।

मिर्जापुर में नमामि गंगे परियोजना के तहत सात गंगा घाट और तीन श्मसान गृह के निर्माण के लिए 26 करोड़ 41 लाख रुपया मिला था। इस पूरे परियोजना का ठेका हरियाणा की एक कंपनी के ऊपर था।मगर इस परियोजना के महीनों बीत जाने के बाद भी अभी तक घाटों के कायाकल्प के तमाम दावे हकीकत की धरातल पर नहीं उतरा जा सका है। अब इस परियोजना में बड़े पैमाने पर पैसे का बंदरबाट करने का आरोप अपनी ही सरकार पर नगरपालिका अध्यक्ष मनोज जायसवाल लगा रहे है।

[MORE_ADVERTISE1]
[MORE_ADVERTISE2]

उनका आरोप है कि 1 दिसंबर 2017 को नगर पालिका अध्यक्ष बनने के बाद तत्कालीन भारत सरकार के नमामि गंगे मंत्री नितिन गडकरी के 34 घाटों का प्रस्ताव दिया, इसके बाद भारत सरकार की तरफ से सात घाट और तीन शवदाह गृह बनाने के लिए 27 करोड़ 41 लाख रुपया भारत सरकार ने स्वीकृत किया था। इसको बनने के लिए इंजीनियरिंग इंडिया लिमिटेड कंपनी को दिया गया था और उसका नवंबर 2018 में शिलान्यास होना था। मगर तत्कालीन जिलाधिकारी अनुराग पटेल ने दवाब बनाकर कार्यक्रम को स्थगित करवा दिया था। उनका कहना है कि मुझे जो जानकारी है कि पूर्व के अधिकारियों ने मिलकर पैसे का बंदरबांट किया और लगभग पांच करोड़ का खर्च दिखाया गया है। कुछ घाटों पर रेलिंग और डस्टबिन सिर्फ लगाया गया है।

मनोज जायसवाल का कहना है कि इसके लिए प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है कि मिर्जापुर नगर के सौंदर्यीकरण और स्वच्छता के लिए भारत सरकार का जो पैसा आया था, इसकी जांच कराई जाए और जो भी अधिकारी कर्मचारी इस मामले में दोषी पाए जायें, उनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाये। बता दें कि नगरपालिका अध्यक्ष मनोज जायसवाल भाजपा के दिग्गज नेता है उनके और तत्कालीन डीएम अनुराग पटेल के बीच की लड़ाई चर्चा का विषय बनी थी।

BY- SURESH SINGH

[MORE_ADVERTISE3]