स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दो भाइयों ने दे दिया सगी बहनों को तलाक, जानिए क्या है पूरा मामला

Sanjay Kumar Sharma

Publish: Aug 20, 2019 11:29 AM | Updated: Aug 20, 2019 11:29 AM

Meerut

खास बातें

  • एसएसपी कार्यालय पहुंची दोनों बहनें, लगाई न्याय की गुहार
  • चार बच्चों की मां को तलाक दिए जाने का मामला आया सामने
  • दहेज मांगने को लेकर दिया तलाक, पुलिस अफसरों से की शिकायत

 

मेरठ। तीन तलाक के कई मामले सामने आए हैं। भले ही तीन तलाक पर सरकार ने कानून बना दिया है, लेकिन इसका खौफ नहीं दिखाई दे रहा है। हाल ही एक दिन में तीन तलाक के चार मामले सामने आए हैं। इनमें दो सगी बहनों को तलाक दिया गया है। इन महिलाओं ने पुलिस अफसरों से न्याय की गुहार लगाई है।

यह भी पढ़ेंः मुस्लिम नेताओं ने कहा- जितनी आजादी भारत में, उतनी इस्लामिक देशों में भी नहीं

दोनों बहनों को उनके घर पर दिया तलाक

भावनपुर क्षेत्र की रहने वाली दो सगी बहनों अंजुम और तबस्सुम की शादी 2016 में ब्रह्मपुरी क्षेत्र के पूर्वा इलाही बख्श निवासी सरताज और उसके भाई फराज के साथ हुई थी। दहेज की मांग को लेकर अक्सर उनके ससुराल वाले उन्हें प्रताड़ित करते थे। मारपीट के साथ कई बार छत के जाल में करंट छोड़कर ससुरालवालों ने दोनों बहनों की हत्या का प्रयास भी किया। दोनों बहनों का आरोप है कि ससुराल वाले उनसे स्विफ्ट कार और पांच लाख रुपये की मांग कर रहे थे। जब उनके मायके वाले दे नहीं पाए तो 2017 में दोनों बहनों को तबस्सुम के बच्चे सहित घर से बाहर निकाल दिया। इस मामले में उन्होंने अपने ससुराल वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था, जो कोर्ट में चल रहा है। दोनों बहनों का आरोप है कि शाम को उनके पति और ससुराल वाले उनके घर पहुंचे और केस वापस लेने का दबाव बनाया। उन्होंने कहा कि सरताज और फराज ने दूसरा निकाह भी कर लिया है। उन्होंने केस में समझौता करने से मना कर दिया तो ससुरालवालों ने उनके साथ मारपीट की। उनका आरोप है कि उनके पति दोनों बहनों को तीन बार तलाक बोलकर चले गए। दोनों बहनें एसएसपी कार्यालय पर पहुंचीं और तहरीर दी। एसपी क्राइम रामअर्ज ने केस की जांच का निर्देश दिया है।

यह भी पढ़ेंः मामा को डराने के लिए भांजे ने की ऐसी काॅल कि लखनऊ तक हिल गया पुलिस प्रशासन

दूसरी से शादी के लिए तलाक

एक अन्य मामले में समर गार्डन निवासी नजराना ने लिसाड़ी गेट पुलिस को दी तहरीर में कहा है कि उसकी शादी रईस से हुई थी। शादी के बाद चार बच्चे हुए। बताया कि कुछ समय से उसके पति का दूसरी महिला से प्रेम-प्रसंग चल रहा है। रात को रईस ने नजराना को तीन तलाक दे दिया और दूसरी महिला के पास चला गया। पीड़िता थाने पहुंची तो पुलिस ने उसके पति को फोन करके मामला बताया और थाने आने को कहा। सोमवार रात तक भी आरोपी पति थाने नहीं पहुंचा था। इंस्पेक्टर नजीर अहमद ने बताया कि मामले में कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ेंः शादी से चार दिन पहले युवती के साथ छेड़छाड़, इसके बाद दोनों पक्ष आ गए आमने-सामने...

दहेज की मांग के बाद बोला तलाक

अन्य मामले में एसएसपी कार्यालय पहुंची श्यामनगर की इशरत ने बताया कि 2011 को इस्लामाबाद के नूर आलम से उसका निकाह हुआ था। इसके बाद से ससुरालवाले दहेज में पांच लाख रुपये की डिमांड कर रहे थे। इशरत का आरोप है कि पति सऊदी अरब चला गया। वहां से लौटा तो मकान बनवाने के लिए इशरत से फिर रुपयों की डिमांड शुरू कर दी। 6 जुलाई को पति ने इशरत को घर से निकाल दिया। इशरत ने पुलिस में इसकी शिकायत कर दी। 13 अगस्त को पति और उसके घर के लोग इशरत के घर पर आए। मारपीट करते हुए केस वापसी का दबाव बनाया। इशरत का कहना है कि नूर आलम ने उसे तीन बार तलाक बोल दिया और फरार हो गए।

UP News से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Uttar Pradesh Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..m