स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

VIDEO: सीएम योगी ने अफसरों को दिए आदेश- सिपाही के हाथ में डंडे की जगह दिखा मोबाइल तो कर दो सस्पेंड

Sanjay Kumar Sharma

Publish: Oct 21, 2019 13:58 PM | Updated: Oct 21, 2019 14:16 PM

Meerut

Highlights

  • कानून-व्यवस्था को लेकर सख्त हुए मुख्यमंत्री
  • प्रदेश के सभी जोन और रेंज अफसरों को दिए आदेश
  • मेरठ एडीजी ने जारी किए सभी एसएसपी को निर्देश

मेरठ। उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ काफी सख्त नजर आ रहे हैं। पिछले कुछ दिनों से जो अपराध प्रदेश में घटित हुए हैं, उनको लेकर वह काफी आहत हैं। गत दिनों लखनऊ में हुई समीक्षा बैठक में उन्होंने इस विषय पर काफी गंभीरता से बात की। उन्होंने बैठक में फिर से पुलिस के पेंच कसे हैं। बैठक में उन्होंने प्रदेश के पुलिस अफसरों को कई आदेश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि बाजारों में त्योहारों के मौके पर लूटपाट और छीना-झपटी की घटनाएं न होने पाएं। साथ ही पुलिस की पेट्रोलिंग को बेहतर करने और डायल 100 की गाडिय़़ों को लगातार संवेदनशील क्षेत्र में गश्त करने की सख्त हिदायत दी है। यह जानकारी सीएम योगी के मीडिया सलाहकार मृत्युंजय कुमार ने दी।

यह भी पढ़ेंः सीएम योगी ने दी चेतावनी- दिवाली पर खेला जुआ तो लगाई जाएगी रासुका

सीएम योगी ने कहा कि पुलिस कांस्टेबल के हाथ में मोबाइल के बजाए डंडा होना चाहिए। उन्होंने कहा कि कई बार देखने को मिला है कि ड्यूटी के दौरान कांस्टेबल मोबाइल पर सोशल मीडिया में व्यस्त रहता है। सीएम योगी ने पुलिस अफसरों को आदेश दिया है कि हर कांस्टेबल के हाथ में डंडा अनिवार्य रूप से होना चाहिए। अगर ऐसा नहीं है तो कांस्टेबल के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐसे पुलिसकर्मियों को तत्काल सस्पेंड किया जाए।

यह भी पढ़ेंः Weather Alert: अगले सात दिन में तापमान घटने का अलर्ट, दिवाली पर इतनी बढ़ जाएगी ठंड

पिछले कई दिनों से मेरठ और पश्चिम उप्र में अपराधों में काफी वृद्धि हुई है। इसको लेकर एडीजी जोन मेरठ प्रशांत कुमार को भी उन्होंने क्राइम कंट्रोल करने के लिए कहा है। इस बारे में जब एडीजी जोन प्रशांत कुमार से बात की गई तो उनका कहना था कि अपराध रोकने के लिए सभी जनपदों के पुलिस कप्तान को आदेश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि अपराध को रोकने में सबसे अधिक भूमिका सिपाहियों की होती है। एसएसपी को निर्देश दिए गए हैं कि वे ऐसे सिपाहियों पर सख्ती करें जो मोबाइल पर सोशल मीडिया पर अधिक व्यस्त रहते हैं।