स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नई नीति से मुआवजा न मिलने के विरोध में पानी की टंकी पर चढ़े किसान, मचा हड़कंप, देखें वीडियो

Sanjay Kumar Sharma

Publish: Oct 20, 2019 18:03 PM | Updated: Oct 20, 2019 18:03 PM

Meerut

Highlights

  • जिला प्रशासन ने एक दिन पहले मांगें ठुकरा दी थी
  • महिलाओं और पुरुषों ने किया जमकर प्रदर्शन
  • भारतीय किसान यूनियन के नेतृत्व में हुआ प्रदर्शन

 

मेरठ। मेरठ के शताब्दीनगर में 620 एकड़ जमीन को किसानों के कब्जे से मुक्त कराने को लेकर दूसरे दिन भी प्रशासनिक अफसरों ने किसानों को खूब मनाया, लेकिन वे नहीं माने। वहीं रविवार को नई नीति से मुआवजा न मिलने के विरोध में किसान टंकी पर चढ़ गए और प्रदर्शन किया।

यह भी पढ़ेंः कुख्यात ऊधम सिंह से दोस्ती कर अपराध की दुनिया में आया था संजीव पकौड़ी, उसके बाद फिल्मी स्टाइल में करता गया गुनाह

परतापुर शताब्दीनगर में तकरीबन एक दर्जन किसान पानी की टंकी पर चढ़ गए, इनमें एक महिला भी शामिल है। दरअसल, शताब्दीनगर में भारतीय किसान यूनियन के नेतृत्व में किसान नई भूमि अधिग्रहण नीति के अनुसार मुआवजे की मांग को लेकर धरने पर डटे हुए हैं। यहां नजदीक ही बनी पानी की टंकी पर चढ़कर किसानों ने अपनी मांगें रखीं।

यह भी पढ़ेंः CCS University: स्टूडेंट्स के लिए राहत, डिग्री पूरी करने का मिलेगा मौका, इतनी होगी फीस

शनिवार को जिलाधिकारी अनिल ढींगरा के साथ हुई बैठक में भी किसान नई मुआवजा नीति से मुआवजा लेने की मांग पर अड़े रहे। वहीं जिलाधिकारी अनिल ढींगरा ने उनकी इस मांग को ठुकरा दिया और किसानों से विकास कार्यों में सहयोग करने के लिए कहा। इस पर गुस्साए किसानों ने बैठक में नारेबाजी शुरू कर दी और आर-पार की लड़ाई लड़ने का एेलान किया। किसानों ने कहा कि वे मर जाएंगे, लेकिन जब तक उनकी मांग नहीं मानी जाएगी, जमीन नहीं छोड़ेंगे। रविवार को इसी के तहत शताब्दी नगर में किसानों ने टंकी पर चढ़कर प्रदर्शन किया। हालांकि बाद में अफसरों के पहुंचने पर उतर आए आैर आंदोलन जारी रखने की बात कही।