स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कोर्ट के आदेश पर बहन ने चार साल बाद भाई को बांधी राखी, जिसने भी देखा भावुक हो गया

Sanjay Kumar Sharma

Publish: Aug 17, 2019 17:43 PM | Updated: Aug 17, 2019 17:43 PM

Meerut

खास बातें

  • न्यायिक अधिकारी के चेंबर में बहन-भाई ने मनाया रक्षा बंधन त्योहार
  • मां की मौत के बाद बहन ननिहाल में और भाई पिता के है पास
  • 2015 से फेमिली कोर्ट में मुकदमा, रक्षा बंधन पर भावुक हुए परिजन

मेरठ। 16 साल की आरूषि ने जब अपने नौ साल के भाई पार्थ को राखी बांधी और उसके मुंह में मिठाई रखी तो दोनों भाई-बहन के इस स्नेह को जिसने भी देखा वह भावुक हो उठा। पार्थ कभी अपने हाथ में बंधी राखी को देखता तो कभी अपनी बहन आरूषि को निहारता। कोर्ट में भाई-बहन का यह मिलन देख दोनों परिवार के लोग भी भावुक हो उठे। यह सुखद नाजारा कचहरी के न्यायिक अधिकारी के चेंबर में देखने को मिला।

यह भी पढ़ेंः Raksha Bandhan 2019: इस बड़ी बहन की मेहनत से टीम इंडिया को मिला स्टार बॉलर, जानिए पूरी कहानी

यह है पूरा मामला

अधिवक्ता डीडी शर्मा के अनुसार पंकज शर्मा निवासी प्रभात नगर की वर्ष 2000 में सोमदत्त विहार निवासी डा. बबीता शर्मा से शादी हुई थी। पंकज शर्मा एक शुगर मिल में डिप्टी मैनेजर के पद पर कार्यरत हैं। वर्ष 2003 में बेटी आरूषि और वर्ष 2010 में बेटा पार्थ पैदा हुआ। इसके बाद वर्ष 2015 में पंकज की पत्नी बबीता की मृत्यु हो गई। बबीता के परिजनों ने पंकज पर हत्या का मुकदमा दर्ज करा दिया। मां की मौत के बाद दोनों बच्चे पिता पंकज के पास रह रहे थे। आरूषि को उसके मामा विपुल एक बार अपने साथ ले गए तो उसके बाद उसे भेजा ही नहीं। दोनों बच्चों पर मायके और ससुराल पक्ष के लोग अपना-अपना हक जता रहे हैं। मामला कोर्ट में चल रहा है।

यह भी पढ़ेंः मुस्लिम परिवार की बेटियां 50 साल से बांध रही हिन्दू भाई को राखी, इस तरह हुई थी शुरुआत, देखें वीडियो

चार साल बाद बांधी राखी

पिछले चार साल से आरूषि अपने भाई पार्थ को राखी भी नहीं बांध पा रही थी, लेकिन इस बार रक्षाबंधन के मौके पर कोर्ट ने आदेश जारी किए कि दोनों भाई-बहन को कोर्ट में लाया जाए, जिसके बाद दोनों कोर्ट में लाए गए और बहन ने भाई की कलाई पर राखी बांधी। डीडी शर्मा के मुताबिक पंकज ने बेटी आरूषि की कस्टडी का मामला फेमिली कोर्ट में और नानी द्वारा संरक्षण में लेने का मामला एडीजे कोर्ट में चल रहा है।

UP News से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Uttar Pradesh Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..