स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आपरेशन कायाकल्प से चमकेगा गांव, डीएम ने प्रधानों संग कार्यशाला के माध्यम से किया चर्चा

Mohd Rafatuddin Faridi

Publish: Dec 30, 2019 15:42 PM | Updated: Dec 30, 2019 15:42 PM

Mau

.

मऊ. यूपी के मऊ जनपद में जिलाधिकारी ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी की अध्यक्षता में नगर पालिका कम्युनिटी हाल में आपरेशन कायाकल्प पर चर्चा किया गया। जिसमें जनपद के सभी गांव के प्रधान ने हिस्सा लिया। दो बैंच में प्रधानों से जिलाधिकारी ने बैठक कर चर्चा किया। जिसके बाद प्रधानों ने गांवों का कायाकल्प करने में शासन की मंसा के अनुरुप कार्य़ करने का फैसला लिया।

बतादें कि शासन की मंसा के अनुसार ग्रामिण क्षेत्र में अभी भी विकास काफी दूर है। स्कूल, आंगनबाङी सहित तमाम सुविधाएं बदहाल है। इसी बदहाली को दूर करने के लिए आपरेशन कायाकल्प की शुरुआत किया गया है। जिलाधिकारी ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी ने बताया कि शासन की मंशा है कि ग्रामिण क्षेत्र में सरकारी स्कूल के भवन, आगनबाङी भवन, सड़कें व शौचालय सहित तमाम विकासकारी योजनाओं का कायाकल्प किया जाय। भारत स्वच्छता अभियान के तहत गांव को भी साफ सुथरा और सुन्दर बनाया जायेगा।

बतातें चले कि आपरेशन कायाकल्प के अन्तर्गत परिषदीय विद्यालयों मे अवस्थापना सुविधाओं के सुधार एवं संतृप्तीकरण हेतु पूर्व मे निर्गत शासनादेशों एवं निर्देशों के आलोक मे निर्देशित किया गया है। ग्राम पंचायत मे स्थित अन्य सार्वजनिक स्थल जैसे पंचायत भवन, आंगनबाड़ी केन्द्र, विद्यालय सर्वाधिक महत्वपूर्ण घटक हैं। इन्हीं निर्मितियों में भविष्य के भारत की नींव रची जाती है। आपरेशन कायाकल्प के अन्तर्गत प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों को संतृप्त किया जाना सर्वाधिक महत्वपूर्ण है। 14 वे वित्त आयोग, राज्य वित्त आयोग, ग्राम निधि व अन्य मद से पोषित आपरेशन कायाकल्प के तहत सर्वप्रथम प्राथमिक विद्यालय तथा उच्च प्रा0 विद्यालय को संतृप्त किया जाय। इसके अन्तर्गत विद्यालयों मे वरीयता क्रम का निर्धारण किया गया है जिसमे छात्र-छात्राओ के लिए उनकी संख्या के अनुरूप अलग-अलग शौचालय एवं मूत्रालय का निर्माण, स्वच्छ पेंयजल एवं हैण्डवाशिंग की सुविधा एवं जल निकासी का कार्य,विद्युतिकरण, किचन शेड का जीणोंद्धार एवं सुसज्जीकरण, फर्नीचर, चहारदीवारी एवं गेट का निर्माण, विद्यालय प्रांगण मे इण्टरलाकिंग, अतिरिक्त कक्षा-कक्ष एवं अन्य स्थानीय आवश्यकतानुसार कार्य कराया जाना है।

By Correspondence

[MORE_ADVERTISE1]