स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बाहुबली मुख्तार अंसारी की मुश्किलें बढ़ीं, अब इस मामले में होने जा रही है बड़ी कार्रवाई

Mohd Rafatuddin Faridi

Publish: Aug 17, 2019 11:30 AM | Updated: Aug 17, 2019 11:30 AM

Mau

बाहुबली मुख्तार अंसारी और उनके भाई सांसद अफजाल अंसारी समेत आरोपियों को कृष्णानंद राय हत्याकांड में सीबीआई कोर्ट न किया है बाइज्जत बरी।

मऊ. पूर्व बीजेपी विधायक स्व. कृष्णानंद राय हत्याकांड में बाइज्जत बरी होने के बावजूद यूपी के बाहुबली और मऊ सदर से बसपा विधायक मुख्तार अंसारी की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रहीं। पहले से ही कई मुकदमों में जमानत मिलना मुश्किल से मुश्किल होता जा रहा है तो दूसरी ओर एक और मामले में उन पर कानूनी शिकंजा कस गया है। ताजा मामले में मुख्तार अंसारी के खिलाफ कोर्ट से गैर जमानती वारंट तक जारी हो चुका है।

 

जिस मामले में गैर जमानती वारंट जारी किया गया है वह 1999 में उस समय का है जब मुख्तार आगरा सेंट्रल जेल में बंद थे। उसी दौरान अचानक ही आगरा के उस समय के डीएम ने जेल में छापेमारी कर दी। कहा जाता है कि जेल की तलाशी के दौरान मुख्तार अंसारी के बैरक से मोबाइल और संदिग्ध वस्तुएं मिली थीं। इस मामले में बाहुबली मुख्तार के खिलाफ आपराधिक साजिश, धोखाधड़ी समेत कई धाराओं में जगदीशपुरा में मुकदमा भी दर्ज हुआ था। 2008 से मुकदमा लगातार चल रहा है, लेकिन बार-बार तारीखें पड़ने के बावजूद मुख्तार अंसारी अदालत में पेश नहीं हुए। अब इस मामले में वहां की एसीजेएम सप्तम की कोर्ट ने मुख्तार के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी कर दिये हैं।

 

इतना ही नहीं मुख्तार अंसारी को गिरफ्तार कर अदालत में पेश करने को कहा गया है। बताते चलें कि मुख्तार अंसारी फिलहाल पंजाब की रोपड़ जेल में बंद हैं। वहां उन पर 10 करोड़ की रंगदारी का मुकदमा चल रहा है, जिस की सुनवायी के लिये पंजाब पुलिस जनवरी में मुख्तार को पंजाब ले गई थी। मुख्तार तब से पंजाब की रोपड़ जेल में ही बंद हैं।