स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जेल में ऐसी ऐशो आराम की ज़िन्दगी जीते हैं अपराधी, मऊ जेल का विडियो वायरल होने के बाद हुआ खुलासा

Mohd Rafatuddin Faridi

Publish: Jul 12, 2019 00:16 AM | Updated: Jul 12, 2019 00:16 AM

Mau

वायरल विडियो में चिकन-मटन की दावत उड़ाते, मोबाइल इस्तेमाल करते और हेरोइन पीते दिख रहे हैं क़ैदी

मऊ. जेल का नाम जेहन में आते ही ऊंची ऊंची दीवारें और एक बड़ा से दरवाजे की तस्वीरआंखों के सामने घूमने लगती ह। इस दरवाजे के पीछे होती हैं छोटी-छोटी कालकोठरियां जिनमें जाने से बारे में सोचकर ही आम आदमी की रूह कांप जाती है। जेल के इसी माहौल का डर दिखाकर पुलिस अपराधियों को अपराध करने से रोकती है और जो अपराधी बन चुके होते हैं उन्हें यहीं रखकर सुधरने का मौका दिया जाता है। पर जेल की जो तस्वीर आपका ज़ेहन बना रहा है क्या ऊंची-ऊंची दीवारों और पढ़े से दरवाजे के पीछे वाकई में माहौल ऐसा ही होता है। खौफ का आलम ऐसा ही होता है जैसा आप सोचते हैं। अगर आपका जवाब हां में है जरा रुकिये, मऊ जेल से वायरल हुआ यह वीडियो देखिए उसके बाद शायद आपका ख्याल बदल जाए। जो वीडियो वायरल हुआ है उसको देख कर ऐसा नहीं लगता कि यह किसी जेल का नज़ारा है। वायरल विडियो में कैदी ऐशो आराम से रहते हुए दिख रहे हैं। जेल के बड़े से हॉल में कोई चिकन-मटन पका रहा है तो कहीं कोई स्मार्टफोन मोबाइल पर शायद अपना वॉट्सऐप पर अपना टाइम पास कर रहा है, तो कहीं किसी कोने में दावत उड़ाई जा रही है और इतना ही नहीं जेल के ही कोने में एक कैदी बाकायदा संभवतः हेरोइन का नशा करता हुआ दिखाई देता है। अब अगर यही जेल है और जेल के अंदर का माहौल ऐसा ही है तो अपराधी सुधरे ही क्यों? उसके लिए जेलखाना एक पिकनिक स्पॉट जो है।

 

 

सवाल उठता है कि जेल में यह सारी चीजें आती कहां से हैं। जेल में दावत उड़ाने के लिए सामान कहां से आते हैं। चिकन मटन कहां से आता है और अगर हीरोइन और गांजा चरस का नशा हो रहा है तो यह सारे नशीले पदार्थ जेल में पहुंचते कैसे हैं। ऐसे कौन से पांव है जो इन ऊंची ऊंची दीवारों को लांग कर जेल में यह सारे सामान पहुंचाते हैं। अगर माना जाए तो इस सवाल का जवाब भी उसी वायरल वीडियो में कैदी देते हुए दिख रहे हैं। वीडियो में वीडियो में कैदी को यह कहते हुए सुना जा रहा है कि जेल में सब कुछ मिलेगा बस उसकी कीमत चुकाने के लिए जेब में पैसा होना चाहिए यही नहीं उसी वीडियो में कुछ लोग हाथों में पैसे लिए हुए भी देखे जा रहे हैं सवाल फिर वही है कि ऐशो आराम की यह सारे और रुपए जेल में कैसे पहुंचे। क़ैदी जेल अधिकारियों पर भी भ्रष्टाचार का आरोप लगा रहे हैं। दावा करते दिख रहे हैं कि ये जेल अधिकारी इन सुविधाओं के लिए पैसे वसूलते हैं।

 

बाहर हाल इस वीडियो के सामने आने के बाद जेल प्रशासन ने इसकी जांच के लिए एलआईयू को लगा दिया है। हालांकि मऊ के पुलिस अधीक्षक को इस वीडियो को लेकर कुछ संदेह है उन्होंने कहा है कि इस वीडियो की सत्यता की जांच कराई जाएगी। साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि यह वीडियो नया है या पुराना है इस बात की भी जांच कराई जाएगी। कुल मिलाकर अब देखना यह होगा कि उन्नाव जेल के बाद मऊ जेल में कैदियों के आराम भरी जिंदगी की कहानी कहते इस वीडियो को लेकर पुलिस और सरकार किस तरह के कदम उठाती है, क्योंकि अगर यही जेल है तो तरह की जेल की सजा से अपराध कम होने के बजाय शायद और बढ़े।