स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मऊ जेल का वीडियो वायरल, कैदी का दावा, पैसे देकर हेरोइन-गांजा, मोबाइल और दावत उड़ाओ

Mohd Rafatuddin Faridi

Publish: Jul 10, 2019 11:12 AM | Updated: Jul 10, 2019 11:12 AM

Mau

  • वायरल वीडियो में जेल के अधिकारियों पर लगाया गया है आरोप।
  • पसंद का खाना, मोबाइल आदि रुपये लेकर मुहैया कराए जाने का दावा।

मऊ. यूपी की जेलें अपराधियों के लिये किस कदर ऐशो आराम की जगह बनी हुई हैं इसका अंदाजा कुछ दिनों पहले उन्नाव जेल में पिस्टल लहराते और दावत उड़ाते वीडियो के सामने आने के बाद हो चुका है। अब इसी तरह का एक और वीडियो सामने आया है जो शासन और प्रशासन के दावों की पोल खोलने के लिये काफी है। जेल प्रशासन के कारनामे का यह वीडियो जमकर वायरल हुआ है। वीडियो में हेरोइन और गांजा, मोबाइल फोन का प्रयोग और अपनी पसंद का खाना बनाते हुए दिख रहा है। इस वीडियो के सामने आने के बाद जेल प्रशासन बैकफुट पर है। पुलिस अधीक्षक ने वायरल वीडियो की पड़ताल के लिये एलआईयू को लगाया है।

इसे भी पढ़ें

पिटायी से नाराज पत्नी ने पति को डंडे से पीटकर मार डाला

 

 

वायरल वीडियो में जेल में चल रहे खेल और भ्रष्टाचार की पूरी पोल खुलती दिख रही है। सात मिनट के करीब 10 वीडियो में हर वो काम होता दिख रहा है, जो जेल में प्रतिबंधित है। वीडियो में कैदी खुद बताता दिख रहा है कि जेल में हेरोइन, गांजा, शराब, मुर्गा, मीट सबकुछ आसानी से मिल रहा है। कैदी उसका पूरा मजा ले रहे हैं। जेलर जेल के कैदियों को उनका मनपसंद भोजन उपलब्ध करा रहे हैं। जो वीडियो वायरल हए हैं उन्हें देखकर ऐसा लग रहा है जैसे किसी पिकनिक के वीडियो हों। दावा किया जा रहा है कि वीडियो किसी कैदी ने बनाया है। ऐसे में साफ है कि जेल में मोबाइल का इस्तेमाल भी आसान होगा।

इसे भी पढ़ें

लोकसभा चुनाव के बाद क्यों कट रही है बिजली, BJP किसान मोर्चा प्रदेश उपाध्यक्ष लोगों ने किया सवाल

वायरल वीडियो में कथित तौर पर इन सबके लिये जेलर लाल रत्नाकर सिंह और जेल अधीक्षक अभिनास सिंह को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। दावा किया जा रहा है कि इन्हीं दोनों की शह पर जेल में हेरोइन और गांजे का कारोबार चल रहा है। पैसा हो तो जेल में सारी सुविधाएं मुहैया करायी जा रही हैं। वीडियो में दावा किया गया है कि जेल के अहाता नंबर 2 स्थित बैरक नंबर 4 और सात के कैदियों को एक हजार रुपये प्रतिमाह में हीटर और मोबाइल चलाने की सुविधा मुहैया करायी जाती है। नाश्ते का रेट 20 रुपये है। कैदी कैंटीन की सुविधा ले सकें, इसीलिये जेल का खाना खराब बनाया जाता है, वीडियो में ऐसा दावा किया गया है।

इसे भी पढ़ें

हरिनाथ यादव की मौत के बाद यूपी की इस सीट पर हुआ उपचुनाव, जानिये कौन जीता

इस मामले में मऊ के एसपी अनुराग आर्या ने बताया कि वीडियो को संज्ञान में लेकर जांच पड़ताल शुरू कर दी गयी है। एसपी के मुताबिक वीडियो की सत्यता पर सवाल खड़ा किया गया है। उन्होंने कहा है कि यह वीडियो मऊ जेल का है या नहीं यह जांच का विषय है। अगर मऊ का ही है तो कितना पुराना है। किस कैदी ने बनाया और कैसे बाहर वायरल कराया गया। कौन लोग इसे सोशल मीडिया पर वायरल कर रहे हैं।

By Vijay Mishra