स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मऊ ब्लास्ट में मरने वालों की संख्या बढ़कर 13 हुई, यूपी एटीएस करेगी धमाके की जांच

Ashish Kumar Shukla

Publish: Oct 14, 2019 12:03 PM | Updated: Oct 14, 2019 18:01 PM

Mau

जा सकती हैं और भी जानें, 29 से अधिक घायलों का अस्पताल में कराया जा रहा इलाज

मऊ. मुहम्मदाबाद कोतवाली क्षेत्र के वलीदपुर में सोमवार की सुबह नाश्ता बनाते समय हुए सिलेंडर विस्फोट से पूरा मकान भरभरा कर गिर गया। इस विस्फोट में मरने वालों की संख्या अब बढ़कर 13 हो गई है। 29 से अधिक घायलों का इलाज आजमगढ़ समेत विभिन्न अस्पतालों में कराया जा रहा है। घायलों में ज्यादातर ऐसे लोग है जो विस्फोट की आवाज सुनने के बाद राहत बचाव के लिए मौके पर पहुंचे थे लेकिन मकान गिरने से मलवे में दब गए।


बतातें है कि वलीदपुर निवासी छोटू बढ़ई के घर महिलाएं सुबह करीब 7.30 बजे नाश्ता बना रही थी। उसी दौरान गैस रिसाव से सिलेंडर में आग लग गई। परिवार के लोेग आग बुझाने का प्रयास कर ही रहे थे कि सिलेंडर में विस्फोट हो गया।

विस्फोेट इतना तेज था कि दो मंजिला कमान भूसे की ढेर की तरह ढ़ह गया। वहीं पड़ोस का एक मकान भी बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। इस हादसे में मकान में रह रहे लोग तो दबे ही साथ ही राहत बचाव के लिए पहुंचे आसपास के लोग भी दब गये। मौके पर पहुंची पुलिस और प्रशासन की टीम ने मलवा हटाकर लोगों को निकालने का प्रयास कर रही है। अब तक करीब 35 लोग विभिन्न अस्पतालों में पहुंचाए गए है जिनमें 13 लोगों की मौत हो गयी है। जबकि 29 लोग घायल है। हादसे के बाद दस लोगों को आजमगढ़ जिला अस्पातल भेजा गया था। जहां एक महिला की मौत हो गयी है जबकि चार लोग हायर सेंटर रेफर किए गए है। पांच का उपचार चल रहा है। माना जा रहा है कि मृतकों की संख्या और बढ़ सकती है। घटना स्थल पर चीत्कार मचा हुआ है। मलवे में दबे और मृत लोगों के घर कोहराम मचा है।

सीएम ने दिये निर्देश

घटना की जानकारी के बाद यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने जिले के डीएम औऱ एसपी से बात कर राहत बचाव कार्य जल्द कराने का निर्देश दिया है। सीएम ने कहा कि किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

जांच के भी आदेश दिए

मुख्यमंत्री ने कहा कि है कि सिलिंडर ब्लास्ट हो जाने से आखिर पूरा मकान कैसे गिर सकता है और इतने लोगों की जान कैसे जा सकती है इसकी जांच होनी चाहिए। इस घटना की जांच अब यूपी एटीएस से कराई जाएगी।