स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

डेढ़ सौ साल से चल रहे उपकोषागार को यूपी सरकार ने किया बंद, हजारों लोगों की बढ़ी मुश्किल

Ashish Kumar Shukla

Publish: Nov 16, 2019 16:29 PM | Updated: Nov 16, 2019 16:29 PM

Mau

पेंशन से जु़ड़े किसी भी काम के लिए इन्हे जिला मुख्यालय स्थित कार्यालय जाना पड़ेगा

मऊ. जिले के गोहाना तहसील मुख्यालय पर तकरीबन 150 साल पहले बने उपकोषागार कार्यालय को प्रदेश की सरकार ने नवंबर महीने से बंद कर दिया। इस कार्यालय को अब जिला मुख्यालय पर शिफ्ट कर दिया गया है। यूपी सरकार के इस फैसले से तहसील झेत्र के हजारों पेंशनरों को भारी समस्या का सामना करना पड़ेगा। अब इन्हे पेंशन निकालने या इस संबन्ध में जानकारी हासिल करने या पेंशन से जु़ड़े किसी भी काम के लिए इन्हे जिला मुख्यालय स्थित कार्यालय जाना पड़ेगा।

35 किलोमीटर की बढ़ गई दूरी

पेंशनर रंजीत, शिवशंकर, दिनेश प्रताप आदि बताते हैं कि अब उन्हे 35 से 50 किलोमीटर की अधिक दूरी तय करनी होगी। इसके लिए उन्हे सबसे पहले बस स्टैण्ड जाना होगा। वहां से वाहन कर मऊ जाना पड़ेगा फिर आटो लेकर जिला मुख्यालय जाना पड़ेगा। जिससे उन्हे इस उम्र में समस्या होगी। पेंशनर्स कहते हैं कि सरकार ने ये कदम उठाकर साबित किया है कि ये दूरदर्शी कदम नहीं है।

एक बार जाने में 100 रूपये से अधिक खर्च दिन भर का समय भी

पेंशनर्स कहते हैं कइ तहसील से जिला मुख्यालय पर कार्यालय को शिफ्ट किये जाने से उनके एक बार जाने का खर्च 100 रूपये से अधिक होगा। साथ ही दिन भर का नुकसान कर हम वहां का आना जाना कर पाएंगे। ऐसे में सरकार को चाहिए को पुराने कार्यालय पर ही हमें सुविधा बहाल कर दी जाए। हालांकि स्थानीय विधायक ने इस संबन्ध में कहा है कि मामला उनकी जानकारी में है। विधायक की मानें तो इसे लेकर जिलाधिकारी से उनकी बात हो चुकी है। डीएम ने कार्यालय को आने वाले दिनों में पुरानी जगह पर शिफ्ट करने का आश्वासन दिया है।

[MORE_ADVERTISE1]