स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

फिर बढ़ सकती है बाहुबली MLA मुख्तार अंसारी की बेटे अब्बास की मुश्किल, पुलिस के हाथ लगा सुराग

Sarweshwari Mishra

Publish: Nov 13, 2019 16:54 PM | Updated: Nov 13, 2019 16:54 PM

Mau

12 अक्टूबर को अब्बास अंसारी के खिलाफ कई धाराओं में दर्ज हुआ था मामला

मऊ. बाहुबली मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी के एक ही लाइसेंस पर पांच असलहे खरीदने के मामले में पुलिस ने कई और साक्ष्य जुटाए हैं। लेकिन पुलिस की कार्रवाई उसके अधिकार क्षेत्र पर निर्णय आने के बाद ही आगे बढ़ पाएगी। वहीं पुलिस ने अब्बास अंसारी की तरह कई और लोगों के अपने शस्त्र लाइसेंस को दूसरे राज्य ट्रांसफर करवाकर उस पर नियम से अधिक हथियार खरीदने वालों के खिलाफ जांच शुरू कर दी है। कई राज्यों से लखनऊ पुलिस ने सम्पर्क भी किया है।


12 अक्टूबर को अब्बास अंसारी के खिलाफ कई धाराओं में दर्ज हुआ था मामला
एसटीएफ को अगस्त 2019 में अब्बास अंसारी के लखनऊ में बने शस्त्र लाइसेंस को दिल्ली ट्रांसफर करवाकर उस पर हथियार खरीदने का पता चला था। लखनऊ पुलिस ने महानगर थाने में 12 अक्टूबर को अब्बास अंसारी के खिलाफ नियम का उल्लंघन सहित कई धाराओं में मामला दर्ज किया था। कुछ ही दिन में दिल्ली से अब्बास अंसारी के घर से हथियारों की बरामदगी भी कर ली गई थी। पुलिस अब्बास अंसारी के लखनऊ स्थित मेट्रो सिटी के फ्लैट में गई, जहां ताला लटका हुआ था। इस बीच कार्रवाई का अधिकारक्षेत्र को लेकर कोर्ट ने पुलिस से तीन सप्ताह के भीतर जवाब मांगा था। पुलिस और प्रशासन की ओर से कोर्ट को जवाब भेजा गया है। इस पर निर्णय होने से पहले पुलिस ने अब्बास अंसारी के शस्त्र लाइसेंस से जुड़ी कई अहम जानकारियां भी हासिल की हैं। पुलिस शस्त्र लाइसेंस के ऐसा ही खेल करने वाले कई लोगों के बारे में सूचनाएं जुटा रही है।

यह था पूरा मामला
अब्बास अंसारी के नाम वर्ष 2002 में जिलाधिकारी लखनऊ की ओर से डबल बैरल बंदूक का लाइसेंस नंबर 1628 लखनऊ के निशातगंज पेपरमिल कालोनी स्थित उसके पते से जारी किया गया था। इसके बाद अब्बास अंसारी ने जिला प्रशासन की अनुमति और वेरिफिकेशन के बिना ही इस लाइसेंस को नई दिल्ली बसंतकुंज स्थित किशनगंज के पते पर स्थानांतरित करवा लिया। दिल्ली में अब्बास अंसारी ने खुद को विख्यात निशानेबाज बताते हुए लाइसेंस नंबर एसडीबीएस/2/2015/1 की यूआइडी (10675002 1283342015) पर चार और असलहे खरीदे। इसकी सूचना लखनऊ पुलिस को भी नहीं दी गई।

[MORE_ADVERTISE1]