स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Priyakantju mandir vrindavan में जन्माष्टमी महोत्सव शुरू, देवकीनंदन ठाकुर ने कहा- ये काम करें, खाली हाथ नहीं जाएंगे

Dhirendra yadav

Publish: Aug 18, 2019 07:00 AM | Updated: Aug 17, 2019 20:05 PM

Mathura

मंत्री Chaudhary laxmi Narayan एवं संतों ने दीप प्रज्ज्वलित किया
Vrindavan के ठाकुर श्रीकृष्ण हैं, उन पर अटूट विश्वास करें: देवकी नंदन

 

मथुरा। ठाकुर श्रीप्रियाकान्तजू मंदिर, वृंदावन (Priyakantju mandir vrindavan) पर 108 श्रीमद्भागवत कथा एवं जन्माष्टमी (Janmashtami) महोत्सव का शुभारम्भ उत्तर प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी (Chaudhary laxmi Narayan) एवं संतगणों ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। इसके पश्चात धर्माथ एवं संस्कृति विभाग मंत्री ने व्यासपीठ पूजन कर भागवत आरती उतारी। भागवत प्रवक्ता देवकीनंदन ठाकुर महाराज (Devaki nandan Thakur) ने उन्हें स्मृति चिन्ह प्रदान किया।


भगवान के घर ब्रज-वृन्दावन की स्वच्छता सेवा कर रहे
शांति सेवा सभागृह में हजारों श्रोताओं को भागवत श्रवण कराते हुये देवकीनंदन महाराज ने कहा कि भगवान के नाम, धाम, काम और उनके स्वरूप में अविश्वास नहीं करना चाहिये। भगवान पर भरोसा हो तो वे चमत्कार दिखाते हैं। उन्होंने कहा कि वृन्दावन के ठाकुर श्रीकृष्ण हैं। कन्हैया पर अटूट विश्वास कर भक्ति करने वाले भक्तों को यह वृन्दावन खाली हाथ नहीं जाने देता। श्रीमद् भागवत श्रीकृष्ण स्वरूप है। प्रभु के धाम वृन्दावन में रहकर भागवत श्रवण एवं राधानाम संकीर्तन से ठाकुर की कृपा का अनुभव होने लगता है । देवकीनंदन महाराज ने कहा कि जो सम्पूर्ण विश्व को सिखाते हैं ब्रजवासी उन श्रीकृष्ण के गुरु हैं। कन्हैया की बाललीलाओं के दर्शन के परमसुख को बृजवासी पीढ़ियों से भोग रहे हैं । परमावतार की इस कृपा को लेकर ब्रजवासी सदैव गौरवान्वित होते रहेंगे। उन्होंने कहा कि ब्रज के स्वच्छकार भी सम्मानीय हैं, क्योंकि वह भगवान के घर ब्रज-वृन्दावन की स्वच्छता सेवा कर रहे हैं।

श्रद्धालुओं की आकांक्षाओं के अनुरूप व्यवस्थाओं को सरकार की प्राथमिकता
कैबिनेट मंत्री चौधरी लक्ष्मीनारायण ने धार्मिक स्थलों पर श्रद्धालुओं की आकांक्षाओं के अनुरूप व्यवस्थाओं को सरकार की प्राथमिकता बताया। उन्होंने ब्रज में आने वाले श्रद्धालुओं का स्वागत करते हुए ब्रजवास के महत्व पर प्रकाश डाला। सुदामा कुटी से अमरदास महाराज ने श्रोताओं को भागवत श्रवण को आध्यात्मिक चेतना की जागृति का माध्यम बताया।

ये रहे मौजूद
इस अवसर पर कथा के मुख्य यजमान सुरेश चन्द्र गोयल, मोहिनी देवी, एच.पी. अग्रवाल, प्रवीन सिंह, श्यामसुन्दर शर्मा, रवि रावत, मेरा भारत-मेरा स्वाभिमान अभियान के संयोजक विजय शर्मा आदि उपस्थित रहे ।