स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आयुष्मान भारत योजना में ठगी शुरू, इस तरह खुला राज

Amit Sharma

Publish: Jul 18, 2019 20:40 PM | Updated: Jul 18, 2019 20:40 PM

Mathura

आयुष्मान भारत योजना के लाभ बताकर अपने आप को सरकारी अधिकारी बताकर लोगों से आयुष्मान कार्ड के लिए फॉर्म भरने के नाम पर प्रति कार्ड धारक से 90 रुपए वसूल कर रहे हैं।

मथुरा। आयुष्मान भारत योजना (Ayushman Bharat Yojna) में भी ठग सक्रिय हो गये हैं। ऐसे ही कुछ युवकों को राया कस्बे में लोगों ने पकड़ा है। ये युवक आयुष्मान योजना के फार्म भरवाने के लिए 90 रूपये प्रति फार्म लोगों से ले रहे थे। जब कुछ लोगों ने इनसे पूछा कि फार्म तो निशुल्क भरे जा रहे हैं तो ये युवक इधर उधर की बातें करने लगे।

यह भी पढ़ें- कड़ी सुरक्षा के बीच बरेली से बाहर इस शहर में रह रहे हैं साक्षी अजितेश, किसीको नहीं सीधे मिलने की इजाजत, ये है सुरक्षा व्यवस्था

खुद को स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी बता रहे युवकों को गुरुवार को राया कस्बे के मोहोल्ला पठान के निवासियों ने पकड़ लिया। युवकों पर आरोप लगाते हुए बताया कि ये लोग आयुष्मान भारत योजना के लाभ बताकर अपने आप को सरकारी अधिकारी बताकर लोगों से आयुष्मान कार्ड के लिए फॉर्म भरने के नाम पर प्रति कार्ड धारक से 90 रुपए वसूल कर रहे हैं। जिनकी स्थानीय लोगों द्वारा जब सीएचसी प्रभारी अनुज चौधरी से जानकारी की गई तो उन्होंने बताया उनके द्वारा किसी को भी आयुष्मान भारत योजना के लिए फार्म भरने के लिए नहीं भेजा गया है। वहीं उन्होंने बताया कि आशा कार्यकत्रियों को आयुष्मान कार्ड धारकों को कार्ड वितरण के लिए लगाया गया है। इनके अलावा अगर कोई ऐसा कर रहा है या करता है उसके खिलाफ जांच कर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें- बेबस और लाचार है यूपी पुलिस! सामने आया हैरान करने वाला वीडियो, सिपाही के साथ मारपीट, पिस्टल छीनी, जमकर गालियां दीं और वह कुछ न कर सका

वहीं पकड़े गए युवकों ने आपने आप को निर्दोश बताते हुए कहाकि वे अपनी मां ऊषा देवी जो प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र राया पर आशा कार्यकत्री हैं उनके निर्देश पर कार्ड लेकर गांव गांव आयुष्मान भारत योजना के लिए लोगों को प्रेरित करने निकले हैं वहीं कस्बे के पठान पाड़ा के स्थानीय लोगों से रुपए लेकर फार्म भरने की बात पर उन्होंने बताया उन्हें प्रति फार्म 87 रुपए किसी अधिकारी द्वारा लेने का आदेश मिला था। जिसके आधार पर वे लोगों से रुपए ले रहे थे बाद में स्थानीय लोगों द्वारा अधिकारियों से शिकायत करने के डर से पकड़े गए युवकों से लिये गए रुपए वापस कराये गए और आगे से ऐसा न करने की हिदायत देकर छोड़ दिये गए।