स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

विदेशी निवेशकों को पसंद आ रहा भारतीय बाजार, जून में किया 10,312 करोड़ का निवेश

Shivani Sharma

Publish: Jun 23, 2019 13:36 PM | Updated: Jun 23, 2019 13:36 PM

Market

  • Foreign investors का भारतीय शेयर बाजार में भरोसा बढ़ रहा है।
  • जून महीने में 10,312 करोड़ रुपए का investment किया गया है।

नई दिल्ली। विदेशी निवेशकों (Foreign investors) ने जून महीने में अब तक भारतीय पूंजी बाजार में शुद्ध रूप से 10,312 करोड़ रुपए का निवेश (Investment) किया है। इसमें ज्यादातर निवेश बांड बाजार ( Bond Market ) में किया गया है। विशेषज्ञों ने कहा कि पश्चिमी एशिया में तनाव बढ़ने और भारत-अमरीका ( india-america ) के बीच व्यापार को टकराव के चलते शेयर बाजारों ( share market ) में निवेश में सुस्ती आई है।


डिपॉजिटरी आंकड़ों से मिली जानकारी

डिपॉजिटरी के आंकड़ों के मुताबिक, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI) ने 3 से 21 जून के दौरान, शेयर बाजार में शुद्ध रूप से 552.07 करोड़ रुपए का निवेश किया, जबकि बांड बाजार में 9,760.59 करोड़ रुपए डाले। इस तरह भारतीय पूंजी बाजार में उनका शुद्ध निवेश 10,312.66 करोड़ रहा।


ये भी पढ़ें: सेंसेक्स की शीर्ष 10 कंपनियों में 6 का गिरा मार्केट कैप, RIL को हुआ सबसे ज्यादा नुकसान


विदेशी निवेशकों का भारतीय बाजार में बढ़ रहा भरोसा

इससे पहले, विदेशी निवेशक लगातार चार महीनों से शुद्ध खरीदार बने हुए हैं। वैश्विक निवेशकों ने शेयर और बांड बाजार दोनों में मई में शुद्ध रूप से 9,031.15 करोड़ रुपये, अप्रैल में 16,093 करोड़ रुपये की पूंजी डाली थी। वहीं मार्च में 45,981 करोड़ रुपये तथा फरवरी में 11,182 करोड़ रुपये का निवेश किया था।


हिमांशु श्रीवास्तव ने दी जानकारी

मॉर्निंगस्टार के वरिष्ठ विश्लेषक प्रबंधक (शोध) हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा, कच्चे तेल के दाम में तेजी और अमेरिका-ईरान के बीच गतिरोध से पश्चिम एशिया में तनाव बढ़ने से इस हफ्ते पूंजी बाजार में धारण कमजोर रही। व्यापार युद्ध को लेकर भी निवेशक सतर्कता बरत रहे हैं।


ये भी पढ़ें: Share market prediction: अगले सप्ताह वैश्विक रुख पर निर्भर करेगी शेयर बाजार की चाल


5 जुलाई को पेश होगा बजट

उन्होंने कहा कि विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों का ध्यान पांच जुलाई को पेश होने वाले आम बजट पर भी है। इसमें सरकार राजकोषीय मजूबती, राजकोषीय घाटे के लक्ष्य और आर्थिक वृद्धि को बढ़ाने के लिए उठाए जाने वाले कदमों की रूपरेखा पेश करेगी।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार,फाइनेंस,इंडस्‍ट्री,अर्थव्‍यवस्‍था,कॉर्पोरेट,म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App