स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

खटिया गेट से पहुंच रही सरही गेट की गाड़ियां

Mangal Singh Thakur

Publish: Oct 18, 2019 12:27 PM | Updated: Oct 18, 2019 12:27 PM

Mandla

पर्यटकों के आने से मिलेगा रोजगार

भुआ बिछिया. 15 दिन देर से ही सही लेकिन नेशनल पार्क कान्हा के गेट चारों गेट खुलते ही स्थानीय लोगों में उत्साह दिखाई देने लगा है। त्योहारी सीजन आने के कारण शुरू से ही सभी गेट फूल नजर आ रहे हैं। कान्हा, मुक्की, खटिया, सरही सभी गेट से सुबह-शाम की पर्यटक पार्क में प्रवेश कर रहे हैं। इस वर्ष अत्याधिक बारिश होने के कारण पार्क के अलग-अलग जोन की सड़कें और पुलिया क्षतिग्रस्त हो गई थी। इस कारण 01 अक्टूबर को खुलने वाला कान्हा पार्क इस बार लेट खुल रहा है। सर्वविदित है कि कान्हा राष्ट्रीय उद्यान विश्व भर में मशहूर है और इस पार्क देश ही नही बल्कि विदेशों से भी पर्यटक वाइल्ड लाइफ का लुत्फ उठाने आते हैं। गेट खुलने पर पर्यटकों में काफी उत्साह देखा गया और सफारी में भी बहुत से पर्यटकों ने जंगल मे प्रवेश किया।
नाईट सफारी की सुविधा
बिछिया से महज 7 किमी की दूरी पर कान्हा का सरही गेट स्थित है और इस गेट में पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए विशेष रूप से ट्रैकिंग ट्रेल, वॉच टावर, नाईट सफारी सहित मध्य प्रदेश टूरिज्म का शानदार रिसोर्ट भी बना हुआ है। गेट खुलने पर कान्हा राष्ट्रीय उद्यान से लगे हुए ग्रामो में रहने वाले लोग भी बहुत ही उत्साहित लग रहे थे। कहीं न कहीं पर्यटकों के आने से ग्रामवासियों को भी व्यापारिक दृष्टि से लाभ होता है।
सरही जोन की गाडिय़ों की एंट्री अन्य जोन से
सरही जोन से एंट्री होने वाली गाडिय़ों की संख्या सुबह और शाम को मिलाकर कुल 36 के लगभग हैं लेकिन वर्तमान समय में मात्र 5 से 6 गाडिय़ां ही सरही जोन से अंदर जाती हैं। जबकि सरही जोन की अन्य गाडिय़ां खटिया गेट से अंदर जाती हैं। इसमे सरही जोन के लिए अन्य गेट से गाडिय़ां जाने पर यहां के रिसोर्ट वालों सहित अन्य स्थानीय लोगों के व्यापार का नुकसान भी होता है। यहां के जिप्सी एसोसिएशन एवं गाइडस के द्वारा कई बार क्षेत्र संचालक कान्हा टाइगर रिजर्व को इस समस्या का निदान निकालने के लिए अवगत कराया जा चुका है अन्य लोगों ने वन मंत्री सहित उच्च अधिकारियों को भी इस के लिए बताया है लेकिन अभी तक कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है। मध्य प्रदेश पर्यटन विभाग का रिसोर्ट भी पर्यटकों के न आने से अक्सर खाली रहता है ।