स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

गणित में कमजोर विद्यार्थी अब 10वीं में पहली बार में ही होंगे पास

Sawan Singh Thakur

Publish: Aug 19, 2019 19:01 PM | Updated: Aug 19, 2019 19:01 PM

Mandla

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने विद्यार्थियों को दिया विकल्प

मंडला। दसवीं बोर्ड परीक्षा में गणित विषय को उत्तीर्ण कर पाने वाले विद्यार्थियों को इस बार विकल्प दिया गया है। अब गणित में कमजोर विद्यार्थी विकल्प का चयन कर सकते हैं। सीबीएसई10 वीं बोर्ड परीक्षा 2020 के लिए केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड 10वीं में दो गणित की परीक्षा का आयोजन करेगा। जिसके तहत परीक्षा में दो पेपर होंगे, जिसमें पहला बेसिक और दूसरा स्टैडर्ड गणित का होगा। बोर्ड परीक्षार्थियों को 10वीं के रजिस्ट्रेशन के दौरान चुनने का विकल्प माँगा जा रहा है। जो विद्यार्थी 10वीं में बेसिक गणित पढ़ेंगे, वे आगे की पढाई में गणित विषय नहीं चुन पायेंगे। ऐसे विद्यार्थियों को 11वीं में गणित पढऩे के लिए 10वीं की कंपार्टमेंटल परीक्षा देनी होगी। बशर्तें कि विद्यार्थी 10वीं बोर्ड में बेसिक गणित में उत्तीर्ण हुए हों। पहली बार सीबीएसई पास विषय में कंपार्टमेंटल देने का मौका दे रहा हैं। सीबीएसई बोर्ड ने 10वीं के रजिस्ट्रेशन फार्म के दौरान गणित का विकल्प मांगा है। जो छात्र गणित के जिस विषय का विकल्प देंगे, उसी गणित विषय की उन्हें परीक्षा देनी होगी। बेसिक गणित पढऩे वाले छात्र प्लस टू में गणित नहीं ले पाएंगे। ऐसे छात्र अगर बेसिक गणित में अच्छे अंक प्राप्त कर लेते हैं और वे 11वीं में गणित लेना चाहते तो उन्हें इसके लिए जुलाई में आयोजित होने वाली 10वीं कंपार्टमेंटल परीक्षा में शामिल होना होगा। कंपार्टमेंटल परीक्षा में पास होने के बाद ही वे 11वीं में गणित ले पाएंगे।
दोनों प्रश्न पत्र अलग
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने स्पष्ट कर दिया है कि बेसिक और स्टैंडर्ड गणित के सिलेबस और किताब में कोई भी बदलाव नहीं किया गया है। पाठ्यक्रम एक जैसा ही रहेगा। बस प्रश्न पत्र में बदलाव रहेगा। बेसिक गणित के प्रश्न हल्के और स्टैंडर्ड गणित के प्रश्न कठिन और कंसेप्ट बेस्ड रहेंगे।

रुचि हो तो स्टैंडर्ड, नहीं है तो पढ़े बेसिक गणित
बोर्ड ने विद्यार्थियों को निर्देश दिया है कि जब गणित में रुचि हो तभी गणित विषय पढ़ें। जिन विद्यार्थियों को गणित में रुचि नहीं है और गणित में कमजोर हैं वे छात्र बेसिक गणित पढ़ेंगे। इन विद्यार्थियों को गणित में उत्तीर्ण होना बेहद ही आसान रहेगा।