स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

यहां कचरा उठा और वहां भर जाते हैं कंटेनर

Mangal Singh Thakur

Publish: Oct 18, 2019 12:33 PM | Updated: Oct 18, 2019 12:33 PM

Mandla

दीपावली की तैयारी से सड़कों पर पहुंच रहा कचरा

मंडला. स्वच्छता सर्वेक्षण सर्वे 2020 के लिए नगरपालिका लगातार जतन कर रही है। लेकिन जगह-जगह लगे कचरे के ढेर नपा की व्यवस्था को मुंह चिढ़ा रहे हैं। जबकि नपा का सारा ध्यान अमानक पॉलीथीन पर है। जिस कारण शहर के अंदरूनी हिस्सों में कचरे के ढेर और चोक नालियां लोगों को परेशान कर रहीं हैं। स्वच्छता सर्वेक्षण सर्वे का फाइनल रिजल्ट अगले साल जनवरी में आएगा। लेकिन उससे पहले ही लोगों को नकारात्मक फीडबैक मंडला नपा को रैंकिंग की दौड़ में पछाड़ सकता है।


स्वच्छता सर्वेक्षण सर्वे 2020 के अंतर्गत अप्रैल से जून के बीच पहले चरण का सर्वे हो चुका है। जुलाई में केंद्रीय टीम ने आकर लोगों से फीडबैक लिया है। टीम ने शहर के विभिन्न वार्डों में सफाई व्यवस्था, कचरा कलेक्शन सहित अन्य बिंदुओं पर लोगों का फीडबैक लिया है। तीसरा चरण भी शुरू हो गया। नपा का इस चरण में सबसे ज्यादा फोकस बाजार में पॉलीथीन प्रतिबंधित करना है।
नगरपालिका की सफाई व्यवस्था को जगह-जगह लगे कचरे के ढेर मुंह चिढ़ा रहे हैं। सुपर मार्केट स्थित सब्जी बाजार में पुल के पास ही कचरे का ढेर नजर आ जाता है। सुबह नगर पालिका कर्मी कचरे उठाते ही है और व्यापारी फिर से वहां कचरा फेंक कर चले जाते हैं। जिसमें व्यापारियों की लापरवाही सामने आ रही है। सड़ी-गली सब्जी को कंटेनर में ना डालकर मार्ग में डाल रहे हैं। जिससे बाजार आने वाले उपभोक्ताओं को दिक्कतें हो रही हैं। यही हाल नगर की गलियों का है। दीपावली पर्व को लेकर घर व दुकानों में सफाई की जा रही है। निकलने वाले कचरे को वार्ड वासी व दुकानदार व्यवस्थित नहीं फेंक रहे हैं। बल्कि जहां जगह मिल रही है वहीं कचरा फेंक कर अपना पल्ला झाड़ रहे हैं। 50 हजार की आबादी वाले नगर पालिका क्षेत्र के 24 वार्डों में 220 सफाई कर्मचारी कार्यरत हैं।


बताया गया कि नगर पालिका 15 वाहनो से कचरे का संग्रहण करती है। लेकिन वह नियमित नहीं होता है। सफाई कर्मचारियों को बुधवार और रविवार के दिन हॉफ-डे काम करती है। इसकारण भी बुधवार और रविवार को सफाई पर कम ध्यान दिया जाता है।
पिछले दो साल के मुकाबले इस बार होने वाले स्वच्छता सर्वेक्षण सर्वे का पैटर्न अलग है। अभी तक जो सर्वे होते रहे हैं वे वार्षिक होते थे जिससे नगरीय निकाय सर्वे के पहले जिन क्षेत्रों पर ज्यादा नंबर होते थे उन पर विशेष ध्यान देते थे, अब निकायों का साल में तीन बार सर्वे होगा। जिसके आधार पर नंबरिंग होगी।
ऐसे होगी परीक्षा
पहला चरण-अप्रैल से जून
दूसरा चरण-जुलाई से सिंतबर
तीसरा चरण-अक्टूबर से दिसंबर
मूल्यांकन होगा-जनवरी 2020 में

निरीक्षण में पहुंचे अधिकारी
बम्हनीबंजर. स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 अंतर्गत राज्य शासन स्तर से बनाए गए जिले के नोडल अधिकारी अनिल गौड संयुक्त संचालक नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग भोपाल का भ्रमण कार्यक्रम पीआईयू मेंबर डॉ नादिनी शर्मा एवं परियोजना अधिकारी प्रदीप झारिया के साथ हुआ। जिसमें स्वच्छता सर्वेक्षण से संबंधित निर्धारित मापदंडो में किए गए कार्यो का अवलोकन किया गया। नगर को ओडीएफ प्लस घोषित किए जाने के लिए निरीक्षण किया गया। जिसमें निकाय में स्थित सार्वजनिक एवं सामुदायिक शौचालयों का निरीक्षण किया गया।