स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

डॉक्टर विधायक भी नहीं दिला सके महिला चिकित्सक

Mangal Singh Thakur

Publish: Nov 11, 2019 22:14 PM | Updated: Nov 11, 2019 22:14 PM

Mandla

आश्वासन के बाद भी हाल-जस के तस

निवास. गर्भवती की सेहत को लेकर सरकार फिक्रमंद है। हर माह जांच से लेकर उनके आहार व दवाओं पर नजर रखी जा रही है। आशा व आशा संगिनी को गर्भवती महिलाओं के देखरेख की जिम्मेदारी सौंपी जा रही है। हरेक गर्भवती के सेहत की जांच करके उन्हें सेहत संबंधी बिदुओं पर टिप्स दे रही हैं। लेकिन महिलओं को उपचार के लिए जबलपुर या मंडला जाना पड़ रहा है। दरअसल सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र निवास में 20 वर्षों से महिला चिकित्सक की कमी बनी हुई है। वहीं पूरा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र महज 2 चिकित्सकों के भरोसे संचालित हो रहा है। स्वास्थ्य केन्द्र निवास में वैसे बीएमओ सहित 6 चिकित्सकों की आवश्यकता है लेकिन यहां बीएमओ विजय पेगवार सहित चिकित्सक सेवाएं दे रहे हैं। विधानसभा चुनाव के बाद लोगों महिला चिकित्सक की कमी उम्मीद जाग गई थी। निवास विधायक डॉ अशोक मर्सकोले ने भी महिला चिकित्सक की भर्ती को प्राथमिकता देने की बात कही थी। लेकिन समस्या अब तक दूर नहीं हो सकी है। चुनाव के कुछ माह बाद जिला अस्पताल से एक महिला चिकित्सक को सप्ताह में एक दिन निवास में सेवा देने के निर्देश दिए गए थे। लेकिन वह निर्देश भी कुछ ही सप्ताह तक सीमित रह गए। महिनों से यहां महिला चिकित्सक नहीं है। इस संबंध में विगत दिवस प्रभारी मंत्री को भी ज्ञापन सौंपा गया है। जिसमें चिकित्सकों की कमी दूर करने के साथ 100 बिस्तर अस्पताल की मांग की गई है।
रात में बढ़ जाती है समस्या
स्थानीय लोगों का कहना है कि सरकार भले ही मरीजों को स्वास्थ्य सेवा बेहतर दिलाने की दिशा में नित्य नई-नई योजनाओं को धरातल पर उतार रही है। पर हकीकत में कुछ और ही देखने को मिल रहा है। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में मरीजों को दिन में उचित इलाज मिल जाता है। लेकिन रात के समय लोगों को काफी परेशानी होती है। चिकित्सक की कमी के कारण मरीजों को उपचार नहीं मिलता और उन्हें मंडला रेफर कर दिया जाता है। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के अंतर्गत 100 गांव आते हैं लेकिन महिला चिकित्सक की कमी होने के कारण महिलाओं को संपूर्ण इलाज में बहुत दिक्कतों को सामना करना पड़ता है।
महिला चिकित्सक सहित तीन चिकित्सकों की कमी है। जिसकी पूर्ति के लिए लगातार पत्राचार किया जा रहा है। जल्द ही जिला अस्पताल में चिकित्सकों की भर्ती होनी जिससे समस्या दूर होने की उम्मीद जताई जा रही है।
विजय पेगवार, बीएमओ निवास

[MORE_ADVERTISE1]