स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पिकनिक स्पॉट पर मंडरा रही मौत

Mangal Singh Thakur

Publish: Aug 18, 2019 13:17 PM | Updated: Aug 18, 2019 13:17 PM

Mandla

कुछ डूबे, कई फंसे, सेल्फी के चक्कर में बढ़ी दुर्घटनाएं

मंडला. बारिश का मौसम अपने शबाब पर है। बरसाती नालों और बारिश के पानी ने नगर के आसपास कई पिकनिक स्पॉट की जलधाराओं को उफान पर ला दिया है। एक ओर ये पिकनिक स्पॉट प्रकृति के जीते जागते नैसर्गिक दृश्यों से भरे एक से बढ़कर एक उदाहरण बन गए हैं तो दूसरी और इन प्राकृतिक स्थलों के आसपास मानो मौत मंडरा रही है क्योंकि हरियाली ओढ़े पहाड़ और बरसाती नदियों में उफनती जलधाराओं को निहारने के लिए इन पिकनिक स्पॉट पर सैकड़ों की संख्या में नगर व आसपास के पर्यटक पहुंच रहे हैं। ज्यादातर पर्यटक सेल्फी लेने के रोमांच में अपनी जान जोखिम में डाल रहे हैं। एक जरा सी लापरवाही या भूलवश हुई गलती उनकी जान भी ले सकती है, इसके बावजूद इन पिकनिक स्पॉट पर जान के जोखिम में जलधाराओं के उफान के साथ अपनी सेल्फी लेने का शौक लोगों के सिर पर भूत की तरह सवार हो रहा है। इन पिकनिक स्पॉट में जिला मुख्यालय के समीप स्थित पिकनिक स्पॉट सहस्रधारा और निवास का घुघरा जलप्रपात लोगों की पहली पसंद बना हुआ है। यहां सुरक्षा की दृष्टि से रेलिंग भी नहीं लगाई गई है इसी का फायदा उठाकर पर्यटक खाई में उतरने लगते हैं और ठीक झरने के पास जाकर सेल्फी ले रहे हैं, ऐसे में कभी भी हादसा हो सकता है, क्योंकि यहां पर बारिश का पानी और फिसलन के कारण हादसा होने की संभावना कई गुना बढ़ गई है।
जलप्रपात ने ले ली जान
इन जलप्रपातों पर सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं होने का फायदा एक महिला ने उठाया और पिछले दिनों घुघरा जलप्रपात से कूद कर आत्महत्या कर ली। शनिवार को रपटा के एनीकट से एक युवक बह गया और कुछ दूरी पर पुलिस को उसकी लाश मिली। हालांकि उसकी मौत के कारणों का पता नहीं चल सका है लेकिन शव देखकर प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि युवक नहाने तो नहीं गया था। संभवत: वह दुर्घटना का शिकार हो गया। इसके अलावा सहस्रधारा में बढ़े हुए जलस्तर का रोमांच देखने के लिए पिछले सप्ताह तीन युवक कार सहित बढ़ते जलस्तर में फंस गए और बह गए। उनकी कार एक पत्थर में फंस गई तब कहीं जाकर पुलिस और होमगार्ड उन युवकों का रेस्क्यू कर सकी।
सहस्रधारा वॉटर फॉल
जिला मुख्यालय से लगभग चार किमी दूर स्थित गोंझी पंचायत के करीब स्थित सहस्रधारा जलप्रपात नगरवासियों के आकर्षण का प्रमुख केंद्र बना हुआ है। यहां उफनती नर्मदा हजारों छोटी बड़ी जलधाराओं के रूप में गहरी और विशालकाय खाई नुमा गड्ढे में गिर रही हैं। उफनती नर्मदा का यह दृश्य लोगों में जबर्दस्त उत्साह संचार करता है। यही कारण है कि और अधिक रोमांच के लिए लोग जलधाराओं के करीब जाकर सेल्फी ले रहे हैं। एक जरा सी भूल से उनकी जान भी जा सकती है।
घुघरा जलप्रपात
इन दिनों घुघरा जलप्रपात निवास जनपद सहित अनेक ग्राम के लोगों के लिए दर्शनीय पर्यटन स्थल बना हुआ है। ग्राम पंचायत थानाम गांव के अंतर्गत घुघरा जलप्रपात में हर वर्ष संक्रांति पर्व पर बड़े-बड़े आयोजन व मेले आयोजित किए जाते हैं और इस स्थान को देखने के लिए दूर.-दूर से लोग पिकनिक मनाने आते हैं। इन दिनों लगातार हो रही मूसलाधार बारिश से घुघरा जलप्रपात ऊपर झरने से तेज बहाव से नीचे गिर रहा है जिसको देखने के लिए लोग दूर-दूर से पहुंच रहे हैं और सेल्फी ले रहे हैं और अपनी जान जोखिम में डाल रहे हैं।
रपटा का एनीकट
जिला मुख्यालय स्थित रपटा घाट का छोटा पुल और विपरीत दिशा में एनीकट बना हुआ है। बारिश में बढ़े नर्मदा के जलस्तर के कारण इन दोनों ही स्थानों पर नर्मदा और अधिक तेज बहाव के कारण विकराल रूप ले लेती है। इस रोमांचकारी दृश्य के समीप पहुंचकर लोग सेल्फी ले रहे हैं। जबकि एनीकट के नजदीक फिलहाल फिसलन बहुत अधिक बढ़ चुकी है। पैर फिसलते ही बड़ी दुर्घटना घट सकती है। इसके बावजूद लोग अपनी जान को जोखिम में डाल रहे हैं।