स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जिला स्तर में भी की जा सकेगी किताबों की खरीदी

Sawan Singh Thakur

Publish: Sep 02, 2019 16:53 PM | Updated: Sep 02, 2019 16:53 PM

Mandla

ग्यारहवीं तथा बारहवीं के लिए किताबें खरीद सकेंगे डीईओ
लोक शिक्षण संचालनालय ने दिए निर्देश

मंडला। शिक्षण सत्र 2019-20 में निशुल्क पाठ्य-पुस्तक वितरण योजना अंतर्गत कक्षा ग्यारहवीं तथा बारहवीं के लिए स्थानीय स्तर पर किताबें जिला शिक्षा अधिकारी खरीद सकेंगे। इस संदर्भ में मप्र लोक शिक्षण संचालनालय ने निर्देश जारी किए है, जिसके तहत डीइओ भंडार क्रय अधिनियम के तहत मध्यप्रदेश निगम द्वारा उपलब्ध न होने वाली किताबें खरीद सकेंगे। बताया जाता है कि सत्र 2019-20 से मनोविज्ञान विषय प्रारंभ किया गया हैए लेकिन विद्यार्थियों की संख्या कम होने से पुस्तकें शासकीय डिपो में प्रकाशित नहीं की गई है।
इसके साथ ही कृषि, गृह विज्ञान आदि विषयों की किताबें छात्र-छात्राओं की संख्या के आधार पर क्रय की जा सकेगी। जिला शिक्षा अधिकारी उक्त संदर्भ में प्राचार्यों की बैठक लेकर खर्च होने वाली राशि की मांग प्राप्त कर शासन को सूचित करेंगे। गौरतलब है कि शिक्षा सत्र 2019-20 में कक्षा ग्यारहवीं के लिए कला संकाय में एनसीइआरटी की पुस्तकें लागू की गई है, जिसके लिए निगम से इतिहास, राजनीति विज्ञान, समाजशास्त्र, भूगोल, अर्थशास्त्र की पुस्तकें उपलब्ध कराई गई है। इसके अतिरिक्त गणित, विज्ञान, वाणिज्य संकाय में पूर्व से ही एनसीइआरटी की पुस्तकें लागू है।
राशि के दुरुपयोग पर होगी कार्रवाई
निशुल्क किताबों के लिए उपलब्ध कराई गई राशि से किसी भी स्थिति में पुस्तक के स्थान पर गाइड नहीं खरीदी जाएगी तथा शाला में पाठ्य पुस्तकों से ही पढ़ाया जाएगा। मामले में लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ कार्रवाई की चेतावनी आयुक्त जयश्री कियावत ने दी है। शासकीय स्कूलों में अध्ययनरत कक्षा 11वीं से 12वीं तक के समस्त वर्ग के छात्र-छात्राओं के लिए राज्य शासन की लोक कल्याणकारी निशुल्क पाठ्य पुस्तक योजना अंतर्गत शतप्रतिशत विद्यार्थियों को लाभ दिया जाना है।
राज्य शिक्षा केंद्र ने मांगा पुरानी पुस्तकों का हिसाब
मध्यप्रदेश राज्य शिक्षा केंद्र अंतर्गत छिंदवाड़ा समेत प्रदेश के शासकीय प्राथमिक तथा माध्यमिक स्कूलों में अध्ययनरत विद्यार्थियों को निशुल्क उपलब्ध कराई गई किताबों की उपयोगिता के संदर्भ में जानकारी मांगी गई हैए जिसके लिए शासन द्वारा निर्धारित प्रारूप भी दिया गया है। इसके तहत पुरानी पाठ्य पुस्तकों के पुन: उपयोग में लाने के लिए किए गए संग्रहण एवं वितरण की वर्तमान स्थिति की जानकारी जिला परियोजना समन्वयक के माध्यम से उपलब्ध कराया जाना है। अपर संचालक ओएम मंडलोई के निर्देशानुसार पुरानी किताबों को दोबारा उपयोग में लाए जाने के निर्देश पहले से दिए गए थे।