स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आरोपियों को हुई सजा

Sawan Singh Thakur

Publish: Nov 12, 2019 04:03 AM | Updated: Nov 11, 2019 20:02 PM

Mandla

अलग-अलग मामलों में न्यायालय ने आरोपियों को सुनाई सजा

मंडला। न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी मंडला द्वारा आरोपी मनसुख पिता बहादुर सिंह उम्र 60 वर्ष निवासी कोबरा थाना महाराजपुर को 1 वर्ष के सश्रम कारावास एवं एक हजार रुपए के जुर्माने से दंडित किया है। प्रकरण के संबंध में बताया गया कि अभियुक्त मनसुख द्वारा 27/5/2017 की शाम 7 बजे आमानाला स्थित लोक मार्ग पर वाहन क्रमांक एमपी 51 एस 8830 को उतावलेपन व उपेक्षा से चलाकर नंदलाल मरावी को टक्कर मारते हुए गंभीर रूप से घायल कर दिया। जिस पर थाना मंडला द्वारा अभियुक्त के विरुद्ध विवेचना उपरांत अभियोग पत्र न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया गया। न्यायालय द्वारा साक्ष्यों के सूक्ष्म विवेचना व अभियोजन के तर्कों सहमत होते हुए आरोपी मनसुख को धारा 338 भादवि के अपराध में 1 वर्ष के सश्रम कारावास एवं एक हजार रुपए के जुर्माने से दंडित किया है। प्रकरण में शासन की ओर से पैरवी सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी रमेश चंद्र मिश्रा द्वारा की गई। वही एक मारपीट के मामले में न्यायालय ने सुनवाई करते हुए आरोपियों को 1-1 वर्ष के सक्षम कारावास की सजा सुनाई है। जानकारी के अनुसार 10 नवंबर 2014 को फरियादिया फूलबाई और उसके लडक़े सुनील ने थाना मोहगांव में सूचना दी कि सुबह करीब 10-11 बजे फूलबाई अपने खेत गई हुई थी जहां पर देखा कि रामजी झरिया धान का बोझा उसकी खेत की मेड से ले जाते समय खेत की मेढ़ में लगे राहर के पौधों को झुका दिया है जिससे राहर के पौधे टूट गए थे। फरियादिया ने ऐसा करने से मना किया तो आरोपी रामजी झरिया और सीमा बाई ने गाली गुप्तार कर हाथ में रखे सूर से उसके साथ मारपीट करते हुए चोट पहुंचाई। घटना के वक्त मौके पर रामू बैगा की पत्नी मौजूद थी। उक्त घटना की रिपोर्ट पर थाना मोहगांव में अपराध पंजीबद्ध किया गया। संपूर्ण विवेचना उपरांत अभियोग पत्र न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। जिस पर अभियोजन द्वारा प्रस्तुत साक्ष्य के मूल्यांकन और प्रस्तुत किए गए तर्कों को स्वीकार करते हुए विचार उपरांत आरोपी रामजी झरिया और सीमा बाई निवासी ग्राम सिंगारपुर थाना मोहगांव को धारा 325/34 भादवि के अपराध का दोषी पाते हुए दोष सिद्ध कर 1-1 वर्ष के सश्रम कारावास व एक-एक हजार रुपए के अर्थदंड से दंडित किया गया है। प्रकरण में अभियोजन की ओर से पैरवी सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी जीतेंद्र सिंह द्वारा की गई।

[MORE_ADVERTISE1]