स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दर्द से कराहती रहीं प्रसूताएं, लेकिन नहीं पहुंची एंबुलेंस, एक ने सड़क पर तो दूसरी ने ई-रिक्शा में दिया बच्चे को जन्म, ​इलाज के अभाव में शिशु की मौत...

suchita mishra

Publish: Jul 02, 2019 12:51 PM | Updated: Jul 02, 2019 12:51 PM

Mainpuri

एंबुलेंस की लापरवाही की शिकायत सीएमओ से की गई है। जानिए पूरा मामला।

 

मैनपुरी। समय से एंबुलेंस सुविधा न मिलने के कारण जिले में दो अलग अलग जगहों पर प्रसूताओं को काफी परेशानी झेलनी पड़ी। दर्द से कराह रही एक प्रसूता ने सड़क पर ही बच्चे को जन्म दे दिया, लेकिन इलाज के अभाव में उसके बच्चे की मौत हो गई। वहीं दूसरी गर्भवती महिला ने ई-रिक्शा में अस्पताल ले जाते समय शिशु को जन्म दे दिया। फिलहाल दोनों महिलाओं का भोगांव चिकित्सालय में उपचार किया जा रहा है। वहीं एंबुलेंस की लापरवाही की शिकायत सीएमओ से की गई है।

यह भी पढ़ें: सीएम योगी के आदेश को 'हंटर' बताने वाले एसपी का तबादला, जानिए पूरा मामला!

ये है पहला मामला
पहला मामला भोगांव क्षेत्र के गांव नगला भगत का है। यहां के रहने वाले विशंभर दयाल की पत्नी शालिनी को अचानक प्रसव पीड़ा होने लगी। इस दौरान गांव की आशा संतोष कुमारी ने मोबाइल से कई बार 102 एंबुलेंस बुलाने की कोशिश की। लेकिन बार बार फोन के बावजूद एंबुलेंस समय से नहीं पहुंची। इस दौरान शालिनी ने सड़क पर ही शिशु को जन्म दे दिया। लेकिन समय से उपचार न मिलने के कारण नवजात की स्थानीय चिकित्सालय में मौत हो गई।

यह भी पढ़ें: पड़िया के साथ अप्राकृतिक कृत्य, मौत, आरोपी युवक को भेजा भेजा, जानिए पूरा मामला, देखें वीडियो

 

Case 2

ये है दूसरा मामला
वहीं दूसरा मामला ग्राम नगला गिरधारी का है। यहां रहने वाली मनीषा को प्रसव पीड़ा होने पर परिवार के लोगों ने 102 एंबुलेंस बुलाने के लिए कई बार फोन किए। लेकिन एंबुलेंस नहीं पहुंची। महिला व उसके शिशु की जान बचाने के लिए परिजनों व वहां मौजूद आशा आंकाक्षा ने प्रसूता को ई—रिक्शा में बैठा लिया और अस्पताल ले जाने लगे। लेकिन रास्ते में ही प्रसूता ने बच्ची को जन्म दे दिया। बाद में जच्चा व बच्चा दोनें को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भोगांव में भर्ती कराया गया।