स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Ayodhya Verdict : तू मेरी दिवाली का अली, मैं तेरे रमजान का राम

Ruchi Sharma

Publish: Nov 09, 2019 15:21 PM | Updated: Nov 09, 2019 15:29 PM

Mahoba

अयोध्या भूमि विवाद फैसले के बाद यहां दिखा अलग नजारा, हिंदू-मुस्लिम ने एक दूसरे को गले लगाकर इस तरह दी बधाई

महोबा. बुंदेलखंड का महोबा आल्हा उदल और उनके गुरू ताला सैय्यद के आपसी सौहार्द का प्रतीक है, ऐसे में महोबा में गंगा जमुनी तहजीब की मिसाल देखने को मिल रही है। अयोध्या मामले में सुप्रीमकोर्ट का फैसला आने के बाद हिन्दू मुस्लिम धर्म गुरुओं ने एक दूसरे के गले मिल कर मिठाई खिला कर मुंह मीठा कराया है। ये नजारा महोबा के कई स्थानों पर दिखाई पड़ा है।


एकता और भाईचारे की यह खूब सूरत तस्वीरें सामने आई है। ताला सय्यद और आल्हा ऊदल की धरती महोबा ज़िले से जहां सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद आल्हा परिषद के अध्यक्ष शरद तिवारी दाऊ शहर काजी आफाक हुसैन के घर जा कर उनसे गले मिले और मुंह मीठा करा कर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर खुशी जताते हुये कहा कि फैसला किसी के भी पक्ष में आता हमे मंजूर था, हम पहले भी एक थे और आज भी एक है। अदालती फैसलों से हमारी एकता और सौहार्द में फर्क नहीं पड़ता है। दोनों ने एक दूसरे को गले लगाया और मिठाई खिलाकर आपसी भाईचारे का सन्देश भी दिया है। आल्हा चौक पर समाजसेवी तारा पाटकार और इकबाल भाई गले मिलते देखें गए।

[MORE_ADVERTISE1]