स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

रात में तांत्रिक ने की झाड़-फूंक, सुबह बेटा गायब था!

Shatrudhan Gupta

Publish: May 09, 2017 20:43 PM | Updated: May 09, 2017 20:43 PM

Mahoba

बुंदेलखंड के महोबा जनपद में एक पिता ने तांत्रिक की बातों में आकर अपने जवान बेटे को खो दिया। अब पिता अपने पुत्र की तलाश में पिछले छह माह से दर-दर की ठोकरें खा रहा है। 

रात में तांत्रिक ने की झाड़-फूंक, सुबह बेटा गायब था!

महोबा. बुंदेलखंड के महोबा जनपद में एक पिता ने तांत्रिक की बातों में आकर अपने जवान बेटे को खो दिया। अब पिता अपने पुत्र की तलाश में पिछले छह माह से दर-दर की ठोकरें खा रहा है।  वहीं तांत्रिक पुत्र वापस करने के एवज में 50 हजार रुपए की मांग कर रहा है। मामले में पुलिस अधिकारी जांच कर कार्रवाई करने की बात कह रहे हैं। पिता ने प्रशासन के सभी अधिकारियों को ही नहीं, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी पत्र लिखकर मदद की गुहार लगाई है।

barelal 1

यह घटना जनपद बांदा के कस्बा अतर्रा निवासी दलित बारेलाल के साथ हुई है, जिसने तांत्रिक के चक्कर मे पड़कर अपने जवान बेटे को ही खो दिया। अब बुजुर्ग बाप-बेटे की तलाश में ठोकरें खाने के लिए मजबूर है। दरअसल, बांदा जनपद के ग्राम दिखितवारा निवासी दलित बारेलाल का 22 वर्षीय पुत्र सुरेश मानसिक रूप से बीमार था। उसने सुरेश का विवाह भी करा दिया, लेकिन उसकी बीमारी दूर नहीं हुई। ऐसे में बारेलाल के साले चुन्नू ने उसका इलाज किसी तांत्रिक से कराने की सलाह दी। इन्हें जानकारी मिली कि महोबा जनपद के कोतवाली कुलपहाड़ क्षेत्र के ग्राम सुगरा निवासी गियासी कुशवाहा तंत्र विद्या का माहिर है और किसी भी बीमारी को ठीक कर देता है। 


बारेलाल अपने रिश्तेदार के साथ सुरेश को दिखाने के लिए महोबा तांत्रिक के पास पहुंचा। बारेलाल को क्या पता था कि जिस बीमारी को ठीक कराने के लिए वह तांत्रिक के पास जा रहा है वह बीमारी सही होना तो दूर उसका पुत्र ही उससे दूर हो जाएगा। दरअसल तांत्रिक ने अपने घर पर ही झाड़ फूंक करने का प्रबंध किया और रात में तांत्रिक पूजा पाठ की। देर रात सभी पूजा पाठ के बाद सो गए और जब बारेलाल की आंख खुली तो उसका पुत्र सुरेश गायब था। पिता ने तांत्रिक से पूछा तो उसको कोई सही जवाब नही मिला। पीडि़त ने पुलिस को मामले से अवगत कराया, मगर उसका पुत्र मिलना तो दूर मामले में गुमशुदगी तक की रिपोर्ट नही लिखी गई। पिछले 6 माह से बूढ़ा बाप अपने जवान बेटे की तलाश में दर दर भटक रहा है, पर उसे इंसाफ नही मिल पा रहा। बारेलाल की मानें तो तांत्रिक के पास ही उसका बेटा है और तांत्रिक उसे लौटने के एवज में वह 50 हजार रुपए की मांग कर रहा है, जबकि पुलिस इसे महज गुमशुदगी की नजर से देख रही हैं। 

परिजनों का आरोप है कि पुलिस उन्हें ही धमका रही है और पैसे की मांग कर रही है। इस पूरे मामले को लेकर प्रभारी पुलिस अधीक्षक राजेश सक्सेना का कहना है कि मामला 6 माह पुराना है फिर भी इसकी जांच सीओ कुलपहाड़ को दी गई है। हकीकत सामने आने पर आगे कार्रवाई की जाएगी।