स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अपने ही पति के खिलाफ बच्चों सहित धरने पर बैठी महिला, परिवहन विभाग ने दिया न्याय दिलाने का भरोसा

Neeraj Patel

Publish: Aug 06, 2019 20:11 PM | Updated: Aug 06, 2019 20:11 PM

Mahoba

जिले के रोडवेज परिवहन विभाग में तैनात टीआई की प्रताड़ना से परेशान महिला अपने ही पति के खिलाफ 4 बच्चों के साथ धरने पर बैठ गई है।

महोबा. जिले के रोडवेज परिवहन विभाग में तैनात टीआई की प्रताड़ना से परेशान महिला अपने ही पति के खिलाफ 4 बच्चों के साथ धरने पर बैठ गई है। पीड़ित महिला ने पति पर 12 बर्षों से उत्पीड़न करने का आरोप लगा विभागीय अधिकारियों के समक्ष रोडवेज परिसर में बैठ कार्रवाई की मांग की है।

ये भी पढ़ें - 25 हजार के इनामी ने कोर्ट में किया आत्मसमर्पण, पुलिस के भी उड़ा दिए होश

यह है पूरा मामला

महोबा के उत्तर प्रदेश परिवहन विभाग में तैनात टीआई प्यारेलाल चौरसिया की पहली पत्नी होने के बावजूद भी उसके द्वारा दूसरी शादी कोर्ट मेरेज रिंकू नामक दो बच्चो की मां विधवा महिला से कर ली गई। महिला का आरोप है कि शादी के बाद टीआई महिला को महोबा स्थित अपने घर लेकर कभी नहीं आया है। हमेशा से किराये के मकान में रहने को मजबूर किया है। पहले झांसी और फिर मऊ रानीपुर में किराए के मकान में रहती चली आ रही है। महिला बताती है कि उसके साथ शादी करने के बाद टीआई के दो बच्चे भी हो गए है।

ये भी पढ़ें - छात्रों से भरी स्कूली बस पटलने से दो दर्जन से अधिक बच्चे घायल, मची अफरा तफरी

इसके बाबजूद भी यह मुझे किराये के मकान में रखे हुए है। हमारे पति कभी कभी आकर कुछ पैसा देकर चले जाते हैं। जबकि 4 बच्चों के साथ किराये के मकान में हजार-2 हजार रुपये में गुजर बसर करना मुश्किल हो रहा है। वर्षों से न्याय नहीं मिलने के चलते रोडवेज परिसर में ही धरने पर बैठ गई है। महिला अपने चारों बच्चों के साथ रोडवेज परिसर में धरने पर बैठी है और न्याय की गुहार लगा रही है। इस मामले में उत्तर प्रदेश परिवहन विभाग के एआरएम सीबी राम ने न्याय का भरोसा दिया है।