स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

तीन हाथियों के दल ने एक बार फिर मचाया उत्पात, फसलों को रौंदा, किसानों में दहशत

Bhawna Chaudhary

Publish: Sep 09, 2019 22:00 PM | Updated: Sep 09, 2019 17:41 PM

Mahasamund

तीन हाथियों के दल ने एक बार फिर से उत्पात मचाया है। पिरदा में एक घर की बाड़ी में लगे फसलों को हाथियों ने रौंद दिया।

महासमुंद. तीन हाथियों के दल ने एक बार फिर से उत्पात मचाया है। पिरदा में एक घर की बाड़ी में लगे फसलों को हाथियों ने रौंद दिया। इसके साथ ही पूरी बाड़ी को तहस-नहस कर दिया। इसकी वजह से किसान एक बार फिर से दहशत में है।

पिरदा में रहने वाले भूषण साहू और कृष्णा के घर के बाड़ी में हाथी ने उत्पात मचाया। इसके साथ ही ग्रामीण भी परेशान है। पिछले एक सप्ताह से हाथियों का लगातार विचरण लहलहाते खेतों की ओर हो रहा है। किसान पूरी मेहनत और हजारों रुपए खर्च कर धान की फसल ले रहे हैं और अच्छी फसल की उम्मीद कर रहे हैं, इधर हाथी किसानों की उम्मीद पर पानी फेर रहे हैं। किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें दिखाई दे रही है। वन विभाग भी कुछ नहीं कर पा रहा है। हाथी भगाओ, फसल बचाओ समिति के राधे लाल सिन्हा ने बताया कि हाथी पिरदा से निकलकर अब बंजारी, सोरिद होते हुए बनसिवनी की तरफ चले गए हैं।

यहां फसलों को रौंद दिया है, जिससे किसानों को फसल हानि हुई है। जिले में अच्छी बारिश हो रही है, इससे किसानों को अच्छी फसल की उम्मीद थी, लेकिन हाथियों के विचरण ने किसानों के उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। ग्रामीण भूषण साहू ने बताया कि पिरदा, मालीडीहा में हाथियों के विचरण से गांव वालों का घर से निकलना भी मुश्किल हो गया था।

डर की वजह से सभी अपने घरों में ही दुबके रहे। उन्होंने बताया कि रात में हाथी गांव के कृष्णा ठाकुर के ही आंगन में बैठ गए थे। रात में बिजली चले जाने की वजह से लोग हाथी को देख भी नहीं पा रहे थे। ग्रामीण रात भर दहशत में थे। भूषण ने बताया कि पिछले साल भी हाथी ने उसका पीछा किया था, जिसकी वजह से वो 15 दिनों तक अस्पताल में भर्ती थे। घायल होने के बाद भी सरकार से कोई मदद नहीं मिली थी।

खेतों में हरियाली देखकर आ रहे हाथी
खेतों में हरियाली देखकर हाथी लगातार खेतों की तरफ बढ़ रहे हैं। हाथियों की धमक किसानों की मसीबत बढ़ा रही है। वन अमला केवल हाथियों को खदेडऩे में जुटा हुआ है। हाथी भगाओ फसल बचाओ समिति के राधे लाल सिन्हा ने बताया कि कई किसानों का पिछले वर्ष का भी मुआवजा नहीं मिला है। इसकी वजह से किसान और परेशान है। उन्होंने कहा कि हाथियों पर काबू पाने के लिए लोकेशन ट्रेस किए जा रहे हैं, लेकिन इसका फायदा किसानों को नहीं हो रहा है।