स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आर्थिक जनगणना के मामले में महासमुंद चौथे स्थान पर, सर्वे में जुटे 872 कर्मचारी

Bhawna Chaudhary

Publish: Oct 07, 2019 17:08 PM | Updated: Oct 07, 2019 17:08 PM

Mahasamund

आर्थिक गतिविधियों समेत सभी आर्थिक इकाइयों और प्रतिष्ठानों की गणना हो रही है।

महासमुंद. आर्थिक गतिविधियों समेत सभी आर्थिक इकाइयों और प्रतिष्ठानों की गणना हो रही है। इस मामले में महासमुंद जिला प्रदेश में चौथे स्थान पर चल रहा है। महासमुंद जिले में 21692 घरों व प्रतिष्ठानों का सर्वे किया जा चुका है। सर्वे में जिले के 872 कर्मचारी सभी विकासखंडों में कार्य कर रहे हैं। आर्थिक जनगणना में गांवों पर विशेष फोकस किया जा रहा है।

इसके अलावा ऐसे गांव जहां आर्थिक गतिविधियां बहुत ही कम है या बिलकुल भी नहीं है। जिस गांव में कोई आर्थिक गतिविधि नहीं हो रही है, उसकी पहचान की जाएगी। जिला योजना और सांख्यिकी विभाग से मिली जानकारी के अनुसार उद्योगों, छोटे उद्यमों, दुकानों और कारखानों आदि की जानकारी एकत्रित की जा रही है। यह जानकारी मोबाइल ऐप के माध्यम से ली जा रही है। कार्य की मॉनिटरिंग कॉमन सर्विस सेंटर के कर्मचारी कर रहे हैं।

जिला योजना और सांख्यिकी विभाग के अधिकारी एम तिर्की ने बताया कि गणना से प्राप्त डाटा का उपयोग भारत सरकार और राज्य सरकार द्वारा योजना एवं नीति निर्धारण के कार्य में किया जाएगा। साथ ही उद्यमियों को पंजीकृत करने में सहयोग मिलेगा। इससे मिलने वाले आंकड़ों से जिले की आर्थिक गतिविधि की संपूर्ण जानकारी मिलेगी। सीएससी के माध्यम से घर-घर जाकर आर्थिक क्रियाकलापों में जुटे लोगों का डाटा एकत्र की रही है। फिर इसे सरकार को भेजा जाएगा। इसके आधार पर योजनाएं तय की जाएगी।

1जशपुर जिला प्रदेश में प्रथम स्थान पर
आर्थिक जनगणना के मामले में प्रदेश में जशपुर जिला पहले स्थान पर चल रहा है। यहां 25441 घर व प्रतिष्ठानों का सर्वे हो चुका है। इसके अलावा दूसरे स्थान पर कोरबा है, जहां 24135, तीसरे क्रम पर राजनांदगांव 22719 और चौथे स्थान पर महासमुंद है। यहां 21691 घरों व प्रतिष्ठानों का सर्वे हुआ है। जिला समन्वयक श्यामल शर्मा ने बताया कि गणना के दो आधार भी हैं। इसमें आवासीय और कमर्शियल स्तर पर सर्वे हो रहा है। लोगों का अच्छा प्रतिसाद भी मिल रहा है।