स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

चोरी और लूट करने वाले गिरोह के 10 सदस्य गिरफ्तार, इस तरह देते थे वारदात को अंजाम

Ashish Gupta

Publish: Jul 17, 2019 20:52 PM | Updated: Jul 17, 2019 20:52 PM

Mahasamund

Chhattisgarh Loot Case: महासमुंद पुलिस ने चोरी और लूट करने वाले एक गिरोह के 10 लोगों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है।

महासमुंद. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh Loot Case) के महासमुंद जिले की पुलिस ने चोरी और लूट करने वाले एक गिरोह के 10 लोगों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। पुलिस ने आरोपियों से एक पिस्टल, दो मैगजीन, कुल नगदी 96 हजार रुपए और सोने व चांदी के जेवरात कुल कीमत 1 लाख 50 हजार रुपए व सात मोबाइल जब्त किए हैं। इस गिरोह में कुछ आदतन चोर हैं, जिनके खिलाफ पहले से ही महासमुंद पुलिस थाने में मामले दर्ज किए गए हैं।

पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह ने बुधवार को एसपी कार्यालय में खुलासा करते हुए बताया कि यह गिरोह सूने मकान और राहगीरों से लूट करते थे। इसके लिए इन्होंने गांव के ही लोगों को शामिल करते थे। 9 चोरी की घटनाओं को अंजाम देना आरोपियों ने स्वीकार किया है।

संतोष कुमार सिंह ने बताया कि आरोपियों में घनसाय चौहान पिता शोभाराम चौहान (33) ग्राम अरण्ड पिथौरा, करण कुमार ध्रुव पिता श्रीलाल ध्रुव (23), बड़े छुईया थाना बलौदा बाजार, संदीप धृतलहरे पिता रूपकुमार धृतलहरे (19) बड़े छुईया बलौदा बाजार, मिलाप दीवान पिता महेश दीवान (26) वर्ष ग्राम अरण्ड पिथौरा, डमरूधर चौहान पिता बजारू चौहान (24) वर्ष बाकिपाली टुकड़ा थाना सांकरा, राहुल दुबे पिता केदार दुबे (22) भाटापारा थाना जिला बलौदाबाजार, फग्गु सिंह सागर पिता बरातु सागर (53) विजयमाल थाना सांकरा, मन्नु लाल माझी पिता उहराम माझी (35) विजयमाल थाना सांकरा, ईश्वर चौहान पिता पिलारू चौहान (35), लोकनाथ चौहान पिता देवसिंह चौहान (34) श्रीरामपुर थाना सांकरा शामिल है।

Chhattisgarh Loot Case

एसपी ने बताया कि गिरोह का मास्टरमाइंड घनसाय चौहान था। पूर्व में भी चोरी के अपराध में चालान हो चुका है। वहीं करण कुमार भी चोरी के मामले में चलान हो चुका है। यह मास्टर माइंड का साथी था। डमरूधर चौहान गिरोह में रेकी का कार्य करता था और राहुल दुबे पिस्टल दिखाकर धमकाता था। एसपी ने बताया कि ये और भी चोरी में शामिल हो सकते हैं, पूछताछ की जा रही है।

ऐसे पकड़ाए आरोपी
पीड़ित संजय कुमार ने 13 जुलाई 2019 को थाना सांकरा में आकर रिपोर्ट दर्ज कराई कि वो अन्नपूर्णा फाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड में काम करता है, 8 जुलाई को महिला महिला समूह के सदस्यों का 85560 रुपए कलेक्शन कर अपने बैग में डालकर मोटर साइकिल से बारिकपाली टुकड़ा से वापस पिथौरा आ रहा था। तभी रास्ते में तीन अज्ञात व्यक्ति उसकी मोटर साइकिल को हाथ देकर रोककर उसकी मोटर साइकिल की चाबी निकाल कर उसके ऊपर पेट्रोल डालकर पिस्टल से उन्हें डराकर उसके हाथ से बैग को छीनकर लूट की घटना को अंजाम दिया।

घटना के बाद पीड़ित डर की वजह से खेत की ओर भागा। बाद में जब सड़क पर आकर देखा तो बाइक गिरी हुई थी। इसके बाद उसने थाना में रिपोर्ट दर्ज कराई। पहली टीम घटना की सत्यता की जांच की।इसके बाद पुलिस ने तीन टीम बनाकर मामले की जांच शुरू की। पहली टीम मामले के सीसीटीवी फुटेज निकालकर देखा गया। दूसरे ने लूट के घटना के रास्ते में लोगों की पहचान की गई। तीसरी टीम मुखबिरों से सहायता ली।

इसके बाद टीम को सूचना मिली कि एक युवक इस घटना में शामिल हो सकता है। उसके बाद सांकरा पुलिस ने संदिग्ध की घेराबंदी की। उसने अपना नाम घनसाय चौहान पिता शोभाराम चौहान बताया। गहन पूछताछ के बाद उसने सांकरा और पिथौरा में लूट की बाद स्वीकार कर ली। उसने अन्य आरोपियों के नाम भी बताए। वहीं 3 फरवरी 2019 को ग्राम भजपुरी के बृजलाल साहू के घर से 50 हजार रुपए और सोने चांदी के जेवरात चोरी की बात भी कबूली। इस चोरी में शामिल फग्गु सिंह, मन्नु लाल, ईश्वर, लोकनाथ चौहार, करण को घेराबंदी कर पकड़ा। मास्टर माइंड घनश्याम साथी बदल-बदल कर लूट की घटना को अंजाम देता था।

Chhattisgarh rh Loot Case से जुड़ी खबरें यहां पढ़िए

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर या Download करें patrika Hindi News App.