स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

फिर से गांवों के नजदीक पहुुंचा जंगली हाथियों का दल, किसानों और स्कूल स्टूडेंट्स में दहशत

Akanksha Agrawal

Publish: Jul 19, 2019 13:24 PM | Updated: Jul 19, 2019 13:24 PM

Mahasamund

- एक बार फिर आवासी क्षेत्र के नजदीक पहुंचा जंगली हाथियों का दल
- हाथियों को गांवों से दूर रखने के लिए जुगजुगी लाइट का प्रयोग कर रहे गांव वाले
- किसानों और स्कूल जाने वाले छात्र-छात्राओं में फिर से जंगली हाथियों की दहशत

महासमुंद. जंगली हाथियों का दल एक बार फिर सिरपुर क्षेत्र पहुंच गया है। किसान जंगली हाथियों (wild elephant group) को देख एक बार फिर भयभीत हो गए हैं। डरे सहमे किसानी कार्य में जुटे हुए हैं। हाथियों को गांवों से दूर रखने के लिए जुगजुगी लाइट का प्रयोग किया गया, लेकिन इस प्रयोग का भी असर देखने को नहीं मिला।

संरक्षित क्षेत्र में गमन कराने के बाद वन विभाग के अधिकारी-कर्मचारी राहत की सांस ली, लेकिन पुन: सिरपुर क्षेत्र में वापस आने से विभाग की नींद उड़ गई हैं। इधर, किसानी कार्य प्रारंभ भी हो गया है। वहीं CCF वन्य प्राणी के केके बिसेन ने बताया कि टीम लगातार ग्रामीणों को हाथियों से दूर रख रही है एवं हाथियों को संरक्षित क्षेत्र में गमन कराने की कोशिश में हैं। इस दल में करीब पांच लोग हैं।

जानकारी के अनुसार रबी फसल समाप्त होने के बाद हाथियों का दल संरक्षित क्षेत्र बार व कसडोल के जंगलों में चले गए थे। 20 हाथियों का दल पिछले एक महीने से वहीं विचरण कर रहा था। इसकी टीम का एक टस्कर लगातार ग्रामीण इलाके में विचरण कर वापस जंगल की ओर चला जाता था। वर्तमान में बारिश के बाद जब खेतों में धान के छोटे-छोटे पौधे दिखने लगे तो हाथी अब जंगल छोडकऱ गांवों की ओर वापस आ धमके।

हाथियों के दल को देखकर लहंगर के ग्रामीण सहम गए हैं। किसानों को फिर से चिंता सताने लगी हैं। रबी फसल बर्बाद करने के बाद अब पुन: खरीफ फसल बर्बाद करने के लिए हाथियों का दल पहुंच गया है। फसल व जनहानि का रिकार्ड लगातार बढ़ते चला जा रहा है। वन विभाग व वाल्ड लाइफ की टीम लगातार हाथियों को जंगल की ओर गमन कराने के लिए कई पैतरे अपना रही हैं, लेकिन प्रयास एक दो महीनें में असफल हो जा रहा है।

ज्ञात हो कि सीसीएफ वन्यप्राणी के केके बिसने ने हाथियों को संरक्षित क्षेत्र में गमन कराने के लिए जुगजुगी लाइट का प्रयोग कर ग्रामीणों को हाथियों से दूर रखा था। बिसेन का कहना है कि इस वर्ष यदि फसल हानि होती है, तो उसका मुआवजा जल्द ही किसानों को दिलाया जाएगा। जनहानि न हो इसके लिए विभाग लगातार प्रयासरत रहेगा। हाथी दल की टीम लगी हुई है।

खड़सा की ओर विचरण कर रहे हैं हाथी
सीसीएफ वन्यप्राणी केके बिसेन ने बताया कि हाथियों का दल खड़सा की ओर विचरण कर रहा है। हमारी टीम लगातार हाथियों पर नजर बनाई हुई हैं। वहीं ग्रामीणों को हाथियों से दूर रहने व पटाखा फोडऩे से मना कर रही है। हाथियों को जंगल की ओर गमन कराने के लिए टीम जुटी हैं।

 

जनहानि की क्षतिपूर्ति राशि में हुई बढ़ोतरी
राज्य शासन ने हिंसक वन्यप्राणियों द्वारा जनहानि किए जाने में निर्धारित क्षतिपूर्ति की राशि 4 लाख रुपए दी जाती थी। अब इस राशि में बढ़ोत्तरी कर 6 लाख कर दिया गया है। ज्ञात हो कि महासमुंद जिले में हाथियों व अन्य वन्यप्राणियों ने दो दर्जन से अधिक लोगों को मौत के घाट उतार दिया है।

हाथियों के हमले से सबसे ज्यादा मौते हुई हैं। वहीं हाथियों ने फसल हानि भी की हैं। इधर, वन विभाग की टीम इस बार जनहानि न हो इसके लिए हाथियों के दल पर नजर बनी हुई है। इधर, सिरपुर क्षेत्र में हाथियों का दल वापस आने से कांवरियों की मुश्किले बढ़ गई है, वहीं स्कूली बच्च्चें भी हाथियों के वापस आने से सहम गए हैं। हाथियों के डर से स्कूली बच्चे स्कूल नहीं जाते हैं।

 

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..

LIVE अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News

एक ही क्लिक में देखें Patrika की सारी खबरें