स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

लुधियाना में भीषण अग्निकांड में तीन की मौत, 25 घायल

Shankar Sharma

Publish: Nov 21, 2017 23:07 PM | Updated: Nov 21, 2017 23:07 PM

Ludhiana

पंजाब की औद्योगिक राजधानी लुधियाना में सोमवार की सुबह एक प्लास्टिक फैक्टरी में आग लगने से इमारत ढह गई

चंडीगढ़। पंजाब की औद्योगिक राजधानी लुधियाना में सोमवार की सुबह एक प्लास्टिक फैक्टरी में आग लगने से इमारत ढह गई। जिसमें दबने से तीन व्यक्तियों की मौत हो गई जबकि दो दर्जन से अधिक घायल हो गए।

पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्म मोहिंद्रा ने घटनास्थल का दौरा करके राहत एवं बचाव कार्यों का जायजा लिया वहीं मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने घटना की जांच के आदेश जारी कर दिए हैं। देरशाम तक सेना, एनडीआरएफ तथा फायर ब्रिगेड के कर्मचारी मलवे में दबे लोगों को बाहर निकालने का प्रयास कर रहे थे।

जानकारी के अनुसार सोमवार की सुबह करीब आठ बजे लुधियाना के सुफिया चौक के पास स्थित अमर सन् नाम की प्लास्टिक फैक्टरी में अचानक आग लग गई। फैक्टरी में रोजाना की भांति काम पर आने वाले कर्मचारियों ने आग को देखा और फायर ब्रिगेड को सूचित किया। फैक्टरी में प्लास्टिक के खिलौने तथा अन्य सामान होने के कारण कुछ ही पलों में आग ने समूचे उद्योग परिसर को अपनी चपेट में ले लिया।

फायर ब्रिगेड की एक दर्जन से अधिक गाडिय़ों ने मौके पर पहुंचकर करीब चार घंटे में आग पर काबू पाया। दोपहर तक दमकल विभाग की गाडिय़ां आग पर काबू पाने का प्रयास कर ही रही थी कि अचानक अग्निकांड का शिकार हुई इमारत गिर गई। जिससे समूचे इलाके में अफरा-तफरी मच गई।

घटना की सूचना मिलते ही लुधियाना का समूचा जिला प्रशासन एनडीआरएफ की टीमें तथा आसपास के इलाकों से फायर बिग्रेड कर्मचारियों को मौके पर बुलाकर राहत एवं बचाव कार्य शुरू किए गए। घटनास्थल की गलियां संकरी और आवासीय क्षेत्र होने के कारण राहत कार्य में जुटे जवानों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा।


एनडीआरएफ की टीमों ने आसपास के पूरे इलाके को खाली करवाकर इमारत का मलवा हटाने का काम शुरू किया। समाचार लिखे जाने तक मलवे में से तीन व्यक्तियों के शव बाहर निकाले जा चुके थे जबकि दो दर्जन अधिक घायलों को बाहर निकालकर आसपास के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। मृतकों में एक की पहचान इंद्रपाल सिंह पाल प्रधान पंजाब टैक्सी यूनियन के तौर पर हुई है।


पांच मंजिला इमारत गिरने की घटना के बाद सेहत मंत्री ब्रह्ममोहिंद्रा पहुंचे तथा मौके पर मौजूदा जिला अधिकारियों व अन्य से जानकारी हासिल की। अंधेरा होने के कारण सेना व एनडीआरएफ को राहत कार्यों में खासी दिक्कतें पेश आई।
मौके पर पहुंचे उपायुक्त प्रदीप अग्रवाल व पुलिस कमिश्नर आरएन ढोके ने बताया कि सेना व एनडीआरएफ का आपरेशन जारी है। इमारत के मलवे में कुछ दमकल कर्मी तथा उद्योग कर्मी भी दबे हुए हैं। जिन्हें निकालने के प्रयास लगातार जारी हैं। इसी दौरान पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने समूची घटना के जांच के आदेश जारी कर दिए हैं।