स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पंजाब में कांग्रेस,अकाली दल और आम आदमी पार्टी से बाहर महागठबंधन खडा करने का प्रयास कर रहे खैहरा

Prateek Saini

Publish: Jan 21, 2019 16:21 PM | Updated: Jan 21, 2019 16:21 PM

Ludhiana

पंजाबी एकता पार्टी ने की लुधियाना में जिला अध्यक्षों की बैठक

 

(चंडीगढ,लुधियाना): पंजाब में लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस,अकाली दल और आम आदमी पार्टी से बाहर महागठबंधन खडा करने का प्रयास किया जा रहा है। इसी सिलसिले में आम आदमी पार्टी से बगावत के बाद इस्तीफा देने वाले नेता सुखपाल खैहरा द्वारा गठित पंजाबी एकता पार्टी के जिलाध्यक्षों की बैठक रविवार को लुधियाना में आयोजित की गई और रणनीति पर मंथन किया गया।

 

पंजाब में महागठबंधन की आवश्यकता— खैहरा

बैठक में मंथन के बाद सुखपाल खैहरा ने कहा कि पंजाब में महागठबंधन की जरूरत है। इसका कारण यह है कि अकाली दल ने पंजाब के मुद्ये छोड दिए है और कांग्रेस सिर्फ भ्रष्टाचार ही करती है। आम आदमी पार्टी ने भी पंजाब के ड्रग और पानी जैसे मुद्यों पर दोहरा रवैया अपनाया है। ड्रग के मुद्ये पर जहां ड्रग माफिया को पनाह देने वाले अकाली नेता से मिलीभगत कर माफी मांग ली गई है और पानी पर कोई ठोस रूख नहीं है। आम आदमी पार्टी पंजाब के हितों कों छोडकर सिर्फ केजरीवाल का राग आलापती है। ऐसे में पंजाब में महागठबंधन की जरूरत है। इसीलिए उन्होंने पंजाबी एकता पार्टी का गठन किया है।

 

महागठबंधन के लिए आगे आ रहे दल

खैहरा ने कहा कि महागठबंधन के लिए समान विचारधारा वाले दलों की संख्या बढ रही है। सिमरजीत बैंस और डॉ धर्मवीर के अलावा बसपा एवं अकाली दल टकसाली भी एक मंच पर आये है। आम आदमी पार्टी से निकाले गए सुच्चा सिंह छोटेपुर को साथ लेने के प्रयास किए जा रहे है। उन्होंने आम आदमी पार्टी प्रदेश संयोजक भगवन्त मान और पार्टी के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह द्वारा अपनी आलोचना पर कहा कि भगवन्त मान स्वयं देखें कि जब वे जलालाबाद सुखवीर बादल के खिलाफ चुनाव लडने गए थे तो उन्होंने क्या अकाली दल की मदद की थी। अब अगर वे भटिंडा से चुनाव लडने जाते है तो किस तरह हरशिमरत कौर बादल की मदद होगी। इसी तरह संजय सिंह स्वयं को देखें कि वे आम आदमी पार्टी में आने से पहले समाजवादी पार्टी के नेता अमर सिंह के निजी सहायक थे।