स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

उन्नाव कांड में आया नया मोड़, एम्स में भर्ती पीड़िता ने पहली बार दिया यह बड़ा बयान, बयान से पुलिस औऱ सीबीआई में मची अफरा-तफरी

Akansha Singh

Publish: Aug 19, 2019 10:28 AM | Updated: Aug 19, 2019 11:29 AM

Lucknow

उन्नाव कांड (Unnao Kand) में पीड़ित एक अहम बयान सामने आया है। मामले की पीड़िता ने पहली बार बयान दिया है।

लखनऊ. उन्नाव कांड (Unnao Kand) में पीड़ित एक अहम बयान सामने आया है। मामले की पीड़िता ने पहली बार बयान दिया है। पीड़िता के बयान से मामले में नया मोड़ आ गया है। नई दिल्ली (News Delhi) स्थित एम्स (AIIMS) में इलाज के दौरान खुद रेप पीड़िता ने अपने एक रिश्तेदार को बताया कि बिल्कुल सामने से आकर ट्रक ने उनकी कार को रौंदा था। पीड़िता ने उन्हें यह भी बताया कि कार चला रहे उनके वकील ने रिवर्स गियर लेकर ट्रक के रास्ते में न आने की पूरी कोशिश की लेकिन ट्रक चालक ने इसके बावजूद उनकी कार को रौंद डाला। बता दें कि वकील की भी हालत गंभीर है और उनका भी एम्स में इलाज चल रहा है। हादसे के बाद से ही पीड़िता के परिवार के साथ मजबूती से खड़े इस रिश्तेदार ने एक न्यूज एजेंसी को यह जानकारी दी है। यह वही रिश्तेदार हैं, जिनकी मां भी हादसे की शिकार हुई थीं। उन्होंने बताया, 'मैंने उससे (रेप पीड़िता) पूछा कि उस दिन क्या हुआ था? उसने बताया, 'मैंने ट्रक को सामने से आते देखा। ट्रक को इस तरह से आते हुए देखकर हम डर गए। हमने अलार्म भी बजाया था, जब हमें महसूस हुआ कि ट्रक को जिस तरह से चलाया जा रहा था उसमें कुछ असामान्य है।'

यह भी पढ़ें - बसपा ने उपचुनाव के लिये प्रत्याशियों के नाम किये फाइनल, इन बाहुबलियों को दी जगह, देखें पूरी लिस्ट

CBI को नहीं दी गई है जानकारी

रिश्तेदार के अनुसार पीड़िता ने बताया कि कार चला रहे वकील ने रिवर्स गियर में कार डालकर ट्रक के रास्ते से बचने की कोशिश की लेकिन वह सफल नहीं हो सके, क्योंकि ट्रक बिल्कुल उन्हीं की तरफ मुड़ गया और फिर यह हादसा हो गया। रेप पीड़िता की स्थिति हालांकि अभी नाजुक बनी हुई है लेकिन बीच में कुछ देर जब वह होश में रहीं, उन्होंने अपने रिश्तेदार से इस घटना के बारे में जिक्र किया। हालांकि मामले की जांच कर रही सीबीआई को इस ब्योरे के बारे में अभी तक जानकारी नहीं दी गई है। रिश्तेदार ने कहा, 'उसने मुझे अकेले में यह बात बताई। रेप कांड के बाद उन्नाव छोड़ने और इस हादसे तक लगातार मैं उसके साथ रहा हूं। ऐसे में शायद उसका भरोसा मुझ पर अधिक है। उसने सीबीआई अधिकारियों को भी मिलने से इनकार कर दिया, जो एम्स आए थे।' रिश्तेदार के मुताबिक पीड़िता का अब सीबीआई से भी विश्वास उठ गया है। रिश्तेदार ने कहा, वह मुझसे कहती है कि यूपी सरकार से विश्वास खत्म होने के बाद अब उसका सीबीआई पर से भी भरोसा उठ गया है। ऐसा इसलिए भी है कि उसने सीबीआई को कई बार अपने जान के खतरे को लेकर आगाह किया लेकिन कोई भी ठोस कदम नहीं उठाया गया।

CBI को जांच के लिए दो हफ्ते की मोहलत

उन्नाव रेप पीड़िता (Unnao Rape Victim) रोड एक्सीडेंट मामले की जांच में सीबीआई (CBI) ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में स्टेटस रिपोर्ट सौंप दी और कोर्ट से जांच के लिए अतिरिक्त समय की मांग की। सोमवार को सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को मामले की जांच के लिए दो हफ्ते की और मोहल दी है। साथ ही योगी सरकार को हादसे में घायल पीड़िता के वकील को 5 लाख रुपए मेडिकल खर्च के रूप में देने का निर्देश भी दिया।