स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

PCS J Result 2019: पिता की मौत के चलते पहली बार परीक्षा नहीं दे पाई थीं सौम्या, तो वर्तिका ने इस ट्रिक से सच कर दिखाया सपना

Nitin Srivastva

Publish: Jul 21, 2019 10:06 AM | Updated: Jul 21, 2019 11:18 AM

Lucknow

- बाराबंकी जिले की दो बेटियों ने पीसीएस (जे) 2018 (PCS J 2018) में हासिल की सफलता

- बाराबंकी के सरावगी मोहल्ले में रहने वाली सौम्या मिश्रा को मिली 34वीं रैंक

- बाराबंकी के सिरौलीगौसपुर क्षेत्र के मसूदपुर गांव की वर्तिका पटेल को मिली 349वीं रैंक

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से सटे जिले बाराबंकी की दो बेटियों ने पीसीएस (जे) (PCS J) की परीक्षा में कामयाबी हासिल की है। सौम्या मिश्रा (Saumya Mishra) ने 34वीं और वर्तिका पटेल (Vertika Patel) ने 349वीं रैंक हासिल कर बाराबंकी जिले का नाम रोशन किया है। न्यायिक अधिकारी (Judicial Officer) बनने वाली दोनों बेटियों ने अपनी सफलता का सारा श्रेय अपनी कड़ी मेहनत और माता-पिता के सहयोग को दिया है। इनका कहना है कि मेहनक का कोई शॉर्टकट नहीं होता। मेहनत से हर परीक्षा आसान हो जाती है।


सेट प्लान से सौम्या ने पाया लक्ष्य

पीसीएस (जे) 2018 (PCS J 2018) के आखिरी रिजल्ट में बाराबंकी के सरावगी मोहल्ले में रहने वाली सौम्या मिश्रा ने 34वीं रैंक हासिल कर जिले का नाम रोशन किया है। सौम्या के पिता योगेश मिश्रा की मौत के बाद मां संगीता, भाई संचित और बहन निहारिका के साथ ननिहाल में रहकर सौम्या ने अपनी परीक्षा की तैयारी की। सौम्या मिश्रा (Saumya Mishra) ने लखनऊ की एमिटी यूनिवर्सिटी (Amity University) से साल 2016 में एलएलबी की पढ़ाई पूरी की थी। सौम्या के मुताबिक साल 2016 में पिता की मृत्यु के बाद वह परीक्षा नहीं दे सकीं। जिसके बाद साल 2018 में पहली बार परीक्षा दी और मेहनत से उसमें सफलता हासिल कर ली। सौम्या ने बताया कि मेनहत कभी खराब नहीं जाती। सेट प्लान के साथ तैयारी की जाए तो सफलता हर हाल में मिलती है। सौम्या ने बताया कि उनके नाना वरिष्ठ अधिवक्ता ओमकारनाथ मिश्रा और मामा देशदीपक मिश्रा का तैयारी में काफी योगदान रहा। वहीं परीक्षा के दौरान मां साथ जाती थी। पीसीएस (जे) 2018 रिजल्ट (PCS J 2018 Result) में सौम्या को मिला सफलता के बाद से घर पर बधाई देने वालों का सिलसिला जारी है।


पहले मेंस की तैयारी से आसान हुई राह

वहीं बाराबंकी के सिरौलीगौसपुर क्षेत्र के मसूदपुर गांव के कृष्ण कुमार वर्मा की लड़की वर्तिका पटेल (Vartika Patel) ने भी पीसीएस (जे) 2018 परीक्षा (PCS J 2018 Exam) में 349वीं रैंक हासिल कर जज बनने का सपना पूरा किया। वर्तिका के मुताबिक उनके पिता आईसीपीआर में नौकरी करते हैं। जबकि मां राजकुमारी वर्मा सुबह से रात तक उऩकी पढ़ाई पर ध्यान देती थीं। राममनोहर लोहिया नेशनल विधि विश्वविद्यालय से साल 2015 में एलएलबी (LLB) करने के बाद दिल्ली यूनिवर्सिटी (Delhi University) से वर्ष 2017 में एलएलएम (LLM) किया है। वर्तिका तीन बहनें हैं। बाकी दो बहनें पल्लवी और प्रतिष्ठा को मां हमेशा पढ़ाई के लिए प्रेरित करतीं हैं। वर्तिका ने बताया कि पहले मैंने पीसीएस (जे) सिलेबस (PCS J 2018 Syllabus) को समझा और फिर समय का प्रबंधन कर उसी के अनुसार तैयारी की। सभी विषयों पर बराबर फोकस करते हुए जो टॉपिक कमजोर था उनपर ज्यादा मेहनत की। मैंने पहले मेंस परीक्षा पर पकड़ बनाई और जिससे मेरी प्री की तैयारी को काफी फायदा मिला।

 

यह भी पढ़ें: स्टार्टअप से सुधरेगी गांव की अर्थव्यवस्था, गाय उत्पाद को मिलेगा बढ़ावा, मैनुफैक्चरिंग से लेकर मार्केटिंग कराएगी सरकार