स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Facebook और Google जैसी कंपनियों पर लगेगा टैक्स, G-7 देश ने दी मंजूरी

Shivani Sharma

Publish: Jul 19, 2019 16:50 PM | Updated: Jul 19, 2019 16:50 PM

Corporate

  • Facebook और Google जैसी कंपनियों पर लगेगा टैक्स
  • टैक्स लगने से फेसबुक की क्रिप्टोकरंसी लिब्रा से अंतरराष्ट्रीय मौद्रिक व्यवस्था को खतरा है

नई दिल्ली। फ्रांस में विकसित देशों के समूह जी-7 वित्त मंत्रियों की बैठक में फेसबुक ( Facebook ) और गूगल ( Google ) जैसी डिजिटल कंपनियों के लिये कर लगाने की योजना पर सहमति जतायी है। इसके तहत ऐसी कंपनियों पर न्यूनतम कर लगाया जाएगा। विशेषज्ञों का मानना है कि देश में बड़ी-बड़ी कंपनियों पर बी टैक्स ( Tax ) लगना चहिए। देश में फेसबुक और गूगल जैसी करोड़ों की कमाई करने वाली कंपनियों पर टैक्स लगने की दर को भी निर्धारित कर देना चाहिए।


जोखिम में है फेसबुक की क्रिप्टोकरंसी

आपको बता दें कि G-7 मंत्रियों में इस बात पर सहमति बनी हुई है कि फेसबुक की लिब्रा जैसी क्रिप्टोकरेंसी से अंतरराष्ट्रीय मौद्रिक व्यवस्था को जोखिम है। फ्रांस की तरफ से जारी बयान के अनुसार, ‘‘मंत्रियों ने प्रभावी टैक्सेशन पर सहमति जताई है…यह सुनिश्चित किया जाएगा कि कंपनियों पर जो वाजिब कर बनता है, उसका वे भुगतान करें.’’ फ्रांस G-7 का अभी अध्यक्ष है।


अधिकारियों ने दिया बयान

इसके साथ ही जानकारों ने इस बारे में बयान देते हुए कहा, ‘‘मंत्रियों ने कारोबार के नये मॉडल के लिए नए नियम तैयार करने पर भी सहमति व्यक्त की। इसमे कंपनियों को भौतिक रूप से अपनी मौजूदगी के बिना कारोबार की अनुमति देना शामिल है।’’ फ्रांस के एक अधिकारी ने कहा कि टैक्स की दर के बारे में निर्णय बाद में किया जाएगा।


ये भी पढ़े : बड़ा खुलासाः मुनाफे को लेकर 3 साल तक आपसे झूठ बोलता रहा SBI, नहीं हुई कोई कार्रवाई


गूगल, एपल और फेसबुक पर पड़ेगा असर

सूत्रों के अनुसार समूह की गुरुवार को सुबह चली कई घंटों की बातचीत के बाद इस मामले में आम-सहमति बनी। फ्रांस और अमेरिका के बीच पिछले कुछ सप्ताह से जारी विवाद के बाद यह सहमति बनी है। उल्लेखनीय है कि फ्रांस की संसद इस महीने एक नया नियम पारित किया। इसके तहत डिजिटल कंपनियों की देश के भीतर होने वाली आय पर कर लगाने की बात कही गयी है। भले ही उनका यूरोपीय मुख्यालय कहीं और क्यों नहीं हो। इस कदम से अमेरिकी की गूगल, एपल, फेसबुक और अमेजन पर असर पड़ेगा।


जी-7 के सभी सदस्य ने जताई चिंता

फ्रांस के इस कदम से नाराज अमेरिका ने फ्रांस के खिलाफ अप्रत्याशित जांच की घोषणा की। इससे शुल्क लगाया जा सकता है। साथ ही जी-7 मंत्रियों ने इस बात पर सहमति जतायी कि फेसबुक की लिब्रा जैसी क्रिप्टोकरेंसी से अंतरराष्ट्रीय मौद्रिक प्रणाली को जोखिम है और वे इसे क्रियान्वित करने को सहमत नहीं हैं। फ्रांस के वित्त मंत्री ब्रुनो ली मायरे ने संवाददाताओं से कहा कि जी-7 के सभी सदस्य देशों ने लिब्रा जैसी परियोजनाओं को लेकर गंभीर चिंता जतायी।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार,फाइनेंस,इंडस्‍ट्री,अर्थव्‍यवस्‍था,कॉर्पोरेट,म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App