स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

RIL ने किया मुकेश अंबानी की हिस्सेदारी बढ़ने का खंडन, कहा-झूठी है रिपोर्ट

Saurabh Sharma

Publish: Sep 20, 2019 08:34 AM | Updated: Sep 20, 2019 08:34 AM

Corporate

  • आरआईएल के 41.28 करोड़ के ट्रेजरी शेयरों में पेट्रोलियम ट्रस्ट के 24.09 करोड़ शेयर
  • सहायक कंपनियों के 17.19 करोड़ के शेयरों का विलय आरएसएचएल के साथ

नई दिल्ली। रिलायंस इंडस्ट्रीज ( आरआईएल ) में मुकेश अंबानी की हिस्सेदारी में वृद्धि की रिपोर्ट को खारिज करते हुए कंपनी के एक प्रवक्ता ने कहा है कि आरआईएल की सहायक कंपनियों की चल रही रिस्ट्रक्चरिंग के तहत पांच सहायक कंपनियों के 17.19 करोड़ शेयरों का विलय रिलायंस सर्विसेस एंड होल्डिंग लिमिटेड ( आरएसएचएल ) में कर दिया गया है।

आरएसएचएल का नियंत्रण पेट्रोलियम ट्रस्ट के पास है। पेट्रोलियम ट्रस्ट 2002 में अपनी स्थापना के समय से ही समूह की प्रमोटर कंपनी है। पेट्रोलियम ट्रस्ट का एकमात्र हितभागी रिलायंस इंडस्ट्रियल इन्वेस्टमेंटमेंट्स एंड होल्डिंग लिमिटेड है, जो आरआईएल की शतप्रतिशत सहायक कंपनी है। इस प्रकार आखिरकार इन शेयरों के लाभार्थी आरआईएल के शेयरधारक हैं।

यह भी पढ़ेंः- राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 73 रुपए प्रति लीटर के पार गया पेट्रोल, डीजल की कीमत में भी इजाफा

आरआईएल के प्रवक्ता ने कहा, "शेयरों की लिवाली का कोई हस्तांतरण नहीं है। आरआईएल के 41.28 करोड़ के ट्रेजरी शेयरों में पेट्रोलियम ट्रस्ट के 24.09 करोड़ शेयर हैं और आरआईएल की सहायक कंपनियों के 17.019 करोड़ शेयर हैं। आरआईएल की सहायक कंपनियों की चल रही आंतरिक रिस्ट्रक्चरिंग के हिस्से के रूप में पांच सहायक कंपनियों के 17.19 करोड़ के शेयरों का विलय आरएसएचएल के साथ किया गया है जोकि पेट्रोलियम ट्रस्ट के नियंत्रण वाली कंपनी है।"

प्रवक्ता ने बताया कि दरअसल 17.19 करोड़ के शेयर पेट्रोलियम ट्रस्ट के अधीन है, इसलिए अधिग्रहण नियम के तहत आरएसएचएल द्वारा आवश्यक खुलाया किया गया है। कंपनी ने कहा, "इस प्रकार यह खुलासा सिर्फ मौजूदा ट्रेजरी शेयर के पुनवर्गीकरण के लिए है। किसी नए शेयर का अधिग्रहण नहीं किया गया है और आरआईएल में मुकेश अंबानी की हिस्सेदारी में वृद्धि नहीं हुई है।"

यह भी पढ़ेंः- मात्र चार दिनों में निवेशकों के डूबे 4 लाख करोड़ रुपए, करीब 1300 अंक डूबा सेंसेक्स

यह स्पष्टीकरण उस रिपोर्ट के बाद आया है जिसमें कहा गया कि अंबानी की कंपनी रिलायंस सर्विसेस एंड होल्डिंग्स द्वारा 13 सितंबर को 17.18 करोड़ इक्विटी शेयर यानी 2.17 फीसदी हिस्सेदारी का अधिग्रहण करने के बाद आरआईएल में मुकेश अंबानी की हिस्सेदारी में वृद्धि हुई है।