स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आप नीरव मोदी को भगौड़ा नहीं कह सकते, जानिए क्यों?

Ashutosh Kumar Verma

Publish: Jul 13, 2019 18:27 PM | Updated: Jul 13, 2019 19:39 PM

Corporate

  • पंजाब नेशनल बैंक घोटाले में 14 हजार करोड़ रुपये का चूना लगाने का आरोप।
  • मुंबई के विशेष अदालत ने भगौड़ा आर्थिक अपराधी घोषित करने से मना किया।
  • कोर्ट ने कहा - हमारे पास नहीं है पावर।

नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक को करीब 14 हजार करोड़ रुपये का चूना लगाने के बाद लंदन में मौज काट रहे नीरव मोदी को आप भगौड़ा आर्थिक अपराधी नहीं कह सकते हैं। ये हमारा नहीं बल्कि कोर्ट का कहना है। दरअसल, पीएनबी घोटाले की जांच के दौरान लॉ इन्फोर्समेंट एजेंसियों ने खूब मशक्कत की कि नीरव मोदी को भगौड़ा आर्थिक अपराधी ( Fugitive Economic Offender ) करार दे दिया जाये। लेकिन, मुंबई की विशेष अदालत ने कहा है कि जब तक हमारे पास पावर नहीं है तब तक हम नीरव मोदी को भगौड़ा आर्थिक अपराधी नहीं घोषित कर सकते हैं। कोर्ट ने अब इस मामले की सुनवाई टाल दिया है।

यह भी पढ़ें - आखिर फेसबुक पर क्यों लगा 34 हजार करोड़ रुपये का जुर्माना? क्या है पूरा मामला?

क्या है पेंच

गुरुवार को सुनवाई के दौरान, विशेष न्यायधीश यू एम मुधोलकर ने कहा कि ऐसे मामलों की सुनवाई करने वाले कोर्ट को प्रीवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट ( PMLA ) के तहत और केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो/भ्रष्टाचार निरोधक शाखा के तौर पर यह पावर होना चाहिए। मौजूदा समय में कोर्ट को पीएमएलए के तहत ही पावर मिला हुआ है। उन्होंने कहा, "सीबीआई/एसीबी के तहत कोर्ट को मिलने वाले पावर पर ध्यान देना चाहिये। अभी तक कोर्ट को इसके तहत कोई नोटिफिकेशन नहीं मिला है। ऐसे में आज संभव नहीं है कि कोर्ट इस मामले की सुनवाई को कर सके।"

नीरव मोदी के वकील ने क्या दी थी दलील

बता दें कि हीरा कारोबारी नीरव मोदी के वकील विजय अग्रवाल ने कोर्ट में दलील दी थी कि यह कोर्ट पीएमएलए कानून के अंतर्गत आता है। इसमें भ्रष्टाचार निरोधी कानून को शामिल नहीं किया जा सकता। जस्टिस मुधोलकर ने कहा, "ऐसे मामले में कोई प्रभावी आदेश जारी करना उचित नहीं होगा। बहुत जल्द इस संबंध में नोटिफिकेशन आ सकता है। इस केस में भावी जटिलता से बचने के लिए हम इस मामले की सुनवाई को तब तक टालते हैं जब तक की कोर्ट को नोटिफिकेशन प्राप्त नहीं हो सकता है।"

यह भी पढ़ें - सरकारी कंपनियों से सरकार को उम्मीद, 5 साल में हिस्सेदारी घटाकर 32.5 लाख करोड़ रुपये जुटाने की तैयारी

इस माह नीरव मोदी को लगे हैं कई झटके

इस माह के शुरुआत में ही डेट रिकवरी ट्रिब्युनल ( DRT ) ने नीरव मोदी को निर्देश दिया था कि वो पंजाब नेशनल बैंक को ब्याज समेत 7,200 करोड़ रुपये मुहैया कराये। बीते दो सप्ताह में नीरव मोदी को कई बड़े झटके लगे हैं। पिछले माह 27 जून को स्विटजरलैंड सरकार ने प्रवर्तन निदेशायल के अनुरोध पर नीरव मोदी व उसकी बहन पूर्वी के 4 खतों को जब्त कर लिया है। इन खातों में कुल 283.16 करोड़ रुपये थे।

2 जुलाई को सिंगापुर हाईकोर्ट ने नीरव मोदी, उसकी बहन पूर्वी व पति मयंक मेहता के अन्य चार खातों को भी जब्त किया था। इन खातों में कुल 44 करोड़ रुपये रखे जाने की जानकारी बताई जा रही है। बता दें कि पूर्वी व मयंक मेहता के खिलाफ इंटरपोल ने रेट कॉर्नर नोटिस पर भी जारी कर चुका है।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें Patrika Hindi News App.