स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

एमडीएच सांभर मसाले ने बिगाड़ा अमरीका का स्वाद, मिला यह बैक्टीरिया

Saurabh Sharma

Publish: Sep 12, 2019 16:48 PM | Updated: Sep 12, 2019 16:48 PM

Corporate

  • अमरीका में एफडीए की जांच में मसाले में मिला साल्मोनेला बैक्टीरिया
  • हटाए गए सांभर मसाले, नार्थ कैरोलीना के रिटेल स्टोर्स में हो रही थी बिक्री

नई दिल्ली। यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) द्वारा एमडीएच ब्रांड के 'सांभर मसाला' में साल्मोनेला बैक्टीरिया का पता लगाने के बाद कंपनी ने अपने आलमारियों से कम से कम तीन लॉट को हटा दिया है। आर प्योर एग्रो स्पेशिएलिटीज द्वारा निर्मित और हाउस ऑफ स्पाइसेस (इंडिया) द्वारा वितरित, उत्पाद को एफडीए द्वारा प्रमाणित प्रयोगशाला के माध्यम में जब परीक्षण किया गया तो उसमें साल्मोनेला के बैक्टीरिया पाए गए।

यह भी पढ़ेंः- CBDT की बड़ी राहत, अब 25 लाख तक टीडीएस बकाया रहने पर नहीं चलेगा मुकदमा

एक बयान में कहा गया कि हटाए गए सांभर मसाला की बिक्री नार्थ कैरोलीना के रिटेल स्टोर्स, हाउस ऑफ स्पाइजेस (इंडिया) द्वारा की जा रही थी। साल्मोनेला से ग्रसित खाद्य पदार्थ को खाने के 12 से 72 घंटों में दस्त, बुखार, पेट में मरोड़ जैसी बीमारियां होती है। यह बीमारी से निजात मिलने में चार से सात दिन लगते हैं। बुजुर्गो, नवजातों और कमजोर इम्यून सिस्टम वाले लोगों को इस बीमारी का खतरा ज्यादा होता है।

यह भी पढ़ेंः- क्रूड ऑयल में आई तेजी, पेट्रोल और डीजल के दाम में हो सकती है और बढ़ोतरी

साल्मोनेला बैक्टीरिया इंसानों और जानवरों की आंतों में मिलता है। यह कच्चे मांस, पोल्ट्री, अंड़ों और अपाश्चुरीकृत दूध में भी पाया जा सकता है। सोल्मोनेला बैक्टीरिया अगर शरीर के अंदर घुस जाए तो इससे साल्मोनेला फूड पोइसनिंग हो सकती है।