स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इस भारतीय ने उबर में खोजा आपकी जेब खाली करने वाला वायरस, मिला 4.6 लाख रुपए का इनाम

Saurabh Sharma

Publish: Sep 17, 2019 08:26 AM | Updated: Sep 17, 2019 08:26 AM

Corporate

  • भारतीय साइबर सुरक्षा शोधकर्ता आनंद प्रकाश ने की इस वायरस की खोज
  • वायरस के थ्रू किसी के भी उबर अकाउंट्स में जाने का खुलता था रास्ता

नई दिल्ली। राइड मुहैया कराने वाली वैश्विक दिग्गज उबर ने हाल ही में एक बग को ठीक किया है, जिसकी खोज भारतीय साइबर सुरक्षा शोधकर्ता आनंद प्रकाश ने की थी। इस बग से हैकर्स किसी के भी उबर खाते में लॉग इन कर सकते थे। इस बग के बारे में सूचना देने के लिए कंपनी ने आनंद को 6,500 डॉलर ( करीब 4.6 लाख रुपए ) का भुगतान किया।

यह भी पढ़ेंः- पेट्रोल की कीमत में 14 और डीजल के दाम में 15 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी, जानिए अपने शहर के दाम

इंक42 की रिपोर्ट में कहा गया है कि आनंद ने बताया कि यह बग खातों का नियंत्रण हैकर्स के हाथ में दे सकने वाली भेद्यता से लैस है, जिससे हैकर्स किसी उबर खाते (पार्टनर और उबेर इट्स के खातों समेत) का नियंत्रण अपने हाथ में ले सकते हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, यह बग उबर एप के एपीआई रिक्वेस्ट फंक्शन में मौजूद था।

यह भी पढ़ेंः- भारत के खिलाफ इमरान खान का बेतुका बयान, कहा-पाकिस्तान को करना चाहते हैं दिवालिया

उबर के मुताबिक, इस बग को कंपनी के बग बाउंटी प्रोग्राम के तहत तुरंत ठीक कर लिया गया है। कंपनी ने यह भी कहा कि इस प्रोग्राम के तहत दुनिया भर के 600 शोधकर्ताओं (भारत के शोधकर्ताओं समेत) को 20 लाख डॉलर से अधिक की रकम का भुगतान किया गया है। इससे पहले आनंद ने उबर से एक बग को हटाया था, जिसका फायदा उठाकर कोई भी उबर कैब में जीवन भर मुफ्त सफर कर सकता था।