स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

विजय माल्या खिलाफ लंदन की अदालत में हुई 17.5 करोड़ डॉलर की वसूली को लेकर सुनवाई

Saurabh Sharma

Publish: May 25, 2019 09:02 AM | Updated: May 25, 2019 09:11 AM

Corporate

  • ब्रिटेन की शराब कंपनी डियाजियो ने माल्या के साथ बेटे को भी लपेटा
  • USL में नियंत्रणकारी हिस्सेदारी का अधिग्रहण करने के बाद की है देनदारी

नई दिल्ली। विजय माल्या के लिए मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। अब ब्रिटेन की कंपनी ने वहीं हाईकोर्ट में 17.5 करोड़ डॉलर की वसूली का दावा किया है। जिसके तहत कोर्ट में सुनवाई भी की गई है। कंपनी का नाम डियाजियो है। यह शराब बनाने वाली कंपनी है। यह मामला तब का है जब माल्या ने यूनाइटेड स्प्रिट्स लिमिटेड में नियंत्रणकारी हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया था।

यह भी पढ़ेंः- Today Petrol-diesel price: पेट्रोल की कीमत में 14 पैसे का इजाफा, डीजल की कीमत में 12 पैसे की बढ़ोतरी

ब्रिटिश कंपनी की ओर से किया गया दावा
ब्रिटिश कंपनी की ओर से न्यायमूर्ति रोबिन नॉलेज की पीठ के सामने दावा किया गया है कि विजय माल्या, सिद्धार्थ माल्या और साथ में परिवार से जुड़ी दो कंपनियां ने उसके देनदार हैं। यह देनदारी तब की है जब उसने माल्या की यूनाइटेड स्प्रिट्स लिमिटेड में नियंत्रणकारी हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया था। कंपनी के अनुसार ने कहा कि 4 करोड़ डॉलर विजय माल्या को चुकाने हैं। जो उन्हें अधिग्रहित कंपनी के प्रबंध से नाता तोडऩे के लिए दिया गया था। बाकी बकाया सिद्धार्थ माल्या और कंपनी वाट्सन लिमिटेड से वसूलने हैं। मौजूदा समय में यह कंपनी माल्या के पारिवारिक न्यास कांटिनेंटल एडमिनिस्ट्रेशन सर्विसेज लिमिटेड के नियंत्रण में है।

यह भी पढ़ेंः- गोएयर ने शुरू की 'मेगा मिलियन सेल', मात्र 899 रुपए में मिल रहा है हवार्इ सफर करने का मौका

हाल ही में मिला है माल्या को समय
हाल ही के दिनों में विजय माल्या को मध्य लंदन स्थित अपने गिरवी घर छुड़ाने के लिए अदालत से अगले साल अप्रैल तक का समय मिला है। माल्या ने घर गिरवी रखकर स्विस बैंक यूबीएस से कर्ज लिया था। यूबीएस बैंक की ओर से विजय माल्या को घर के बदले 2.04 करोड़ पौंड (करीब 182 करोड़ रुपये) कर्ज दिया था। जिसके भुगतान न करने पर विजय माल्या के कॉर्नवाल टेरेस अपार्टमेंट को कब्जे में लेने की मांग की थी। ब्रिटिश हाई कोर्ट की चांसरी डिवीजन के जज सिमॉन बार्कर के न्यायिक सहमति आदेश के मुताबिक दोनों पक्षों में समझौता हो जाने की वजह से मामले की प्रक्रिया स्थगित कर दी गई है।

 

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.