स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आनंद महिंद्रा के एक ट्वीट ने केंद्र सरकार की खोली आंखें, एक दिन में जारी किया 80 वर्षीय महिला को गैस सिलेंडर

Saurabh Sharma

Publish: Sep 13, 2019 08:59 AM | Updated: Sep 13, 2019 08:59 AM

Corporate

  • आनंद महिंद्रा ने ट्विटर पर जारी किया चूल्हें पर इडली बनाने वाली वृद्घा का वीडियो
  • वीडियो वायरल होने के बाद केंद्रीय मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने जारी किया गैस कनेक्शन

नई दिल्ली। तमिलनाडु के कोयंबटूर जिले की 80 वर्षीय एक महिला की अदम्य भावना ने कई लोगों के दिलों को पिघला दिया है, जिसमें सत्ता के गलियारे के लोग भी शामिल हैं, क्योंकि उनकी कठिनाई का चित्रण करने वाले वीडियो के वायरल होने के एक दिन के भीतर उन्हें एलपीजी कनेक्शन मिल गया है। कमललता की कहानी सोशल मीडिया पर जंगल की आग की तरह फैली, जब महिंद्रा समूह के अध्यक्ष आनंद महिंद्रा ने उन्हें एक साधारण झोपड़ी में इडली तैयार करते हुए वीडियो साझा किया।

यह भी पढ़ेंः- पेट्रोल और डीजल की कीमत में लगातार दूसरे दिन इजाफा, आज इतने बढ़े आपके शहर में दाम

उन्होंने इस वीडियो को मंगलवार को साझा करते हुए शीर्षक में लिखा, "यह उन विनम्र कहानियों में से एक है, जो आपको आश्चर्यचकित करती है कि आप जो कुछ भी करते हैं, क्या वह कमललता के एक अंश जितना भी प्रभावशाली है। मैंने देखा कि वह अभी भी लकड़ी से जलने वाले स्टोव का उपयोग करती है। अगर कोई उन्हें जानता हो तो मैं उनके व्यापार में 'निवेश' कर खुश होऊंगा और उनके लिए एलपीजी ईंधन और चूल्हा खरीद दूंगा।" हालांकि, सरकार ने उन्हें आगे बढ़कर एलपीजी कनेक्शन जारी कर दिया और इसमें केंद्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस और स्टील मंत्री धर्मेद्र प्रधान में एक सक्रिया भूमिका निभाई।

प्रधान ने बुधवार को एक ट्वीट कर कहा, "कमललता की भावना और प्रतिबद्धता को सलाम। स्थानीय ओएमसी अधिकारियों के माध्यम से उन्हें एलपीजी कनेक्शन पाने में मदद कर खुश हूं।"

यह भी पढ़ेंः- खाद्य पदार्थों के दाम बढ़ने से अगस्त में बढ़ी 3.21 फीसदी खुदरा महंगाई

महिंद्रा ने कहा, "यह शानदार है। कमललता को स्वास्थ्य की यह सौगात देने के लिए भारत गैस कोयंबतूर को धन्यवाद। जैसा कि मैंने पहले ही कहा था, मैं उनके निरंतर एलपीजी के लागत को वहन कर खुश होऊंगा.. और आपकी चिंता और विचारशीलता के लिए धन्यवाद, धर्मेद्र प्रधान।"